आतंकवाद के केंद्र बने पाकिस्तान पर सैनिकी कारवाई कर उसे समाप्त करें ! - राष्ट्रप्रेमियों की मांग

 


    जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादी संगठन ‘जैश--मोहम्मद’ ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों पर 14 फरवरी को कायराना हमला किया । इसके पहले  आतंकवादियों ने उरी के सैनिक शिविर पर आक्रमण किया था । इसके उत्तर में भारतीय सैनिकों ने पाकिस्तान को पाठ पढाने के लिए सितंबर 2016 में ‘सर्जिकल स्ट्राईक’ करपाक अधिकृत कश्मीर में आतंकियों के अनेक अड्डे ध्वस्त किए थे । इसके पश्‍चात भी पाकिस्तान के आचरण में कोई सुधार नहीं हुआ । आतंकवादी कृत्य लगातार हो रहे हैंजिसमें हमारे अनेक सैनिक हताहत हो रहे हैं । आतंकवादियों और पाकिस्तानी सैनिकों का भारतीय सैनिकों को मारनायह पाकिस्तान का अघोषित युद्ध का ही अंग है । इस प्रकारदेश की संप्रभुता को ललकारनेवाले और देश को विश्‍व में अपकीर्त करनेवाले पाकिस्तान की चुनौती का प्रखर उत्तर भारतीय शासक देंयह अब काल की आवश्यकता है । अब और कितने सैनिक हुतात्मा होने पर भारतीय शासक नींद से जागेंगे केवल राजनीतिक इच्छाशक्ति के अभाव में सैनिकों की इसी प्रकार बलि चढती रहीतो निकट भविष्य में सैनिकों के साथ-साथ पूरे देश में अस्थिरता का वातावरण बनने में समय नहीं लगेगा । इसलिएकेंद्रशासन को चाहिए कि वह जनभावना को ध्यान में रखते हुए आतंकवाद के केंद्र पाकिस्तान के विरुद्ध तुरंत कठोर कार्यवाही कर उसे समाप्त ही करे । इसी प्रकारकश्मीर के अलगाववादी नेताआें की सुरक्षाव्यवस्था निकाल कर उन्हें अन्य राज्यों के कारागारों में बंद किया जाए । यह मांग हिन्दू जनजागृति समिति के श्री ठाकुर सिंह ने की । पुलवामा में हुए आतंकवादी आक्रमण की निंदा करने के लिए  हिन्दू जनजागृति के कार्यकर्ताओ ने निषेध प्रदर्शन किया तथा सिटी मजिस्ट्रेट श्री प्रभाकांत अवस्थी को को  ज्ञापन दिया ।


     अमेरिकी नागरिकों पर आक्रमण होने की केवल सूचना मिलने पर अमेरिका ने 20 मुसलमान देशों के दूतावास बंद किए थे । इसलिए, इस घटना का अध्ययन कर अब भारत अनेक स्तरों पर पाकिस्तान को उसका स्थान दिखा दे । भारतीय सैनिकों की बलि लेनेवाले पाकिस्तान से अब भारत को किसी प्रकार की बात नहीं करनी चाहिए । अब उसके विरुद्ध सीधे सैनिक कार्यवाही ही की जाए, यह मांग इस आंदोलन में की गई ।   


        आपका विनम्र,



 

               श्री ठाकुर सिंह

       (हिन्दू जनजागृति समिति के लिए)

           संपर्क :9359503950

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,