प्रधानमंत्री ने वाराणसी में बनारस हिन्‍दू विश्‍ववियालय का दौरा किया : मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा का अनावरण किया और अनेक परियोजनाओं का उद्घाटन किया

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज वाराणसी में बनारस हिन्‍दू विश्‍वविद्यालय का दौरा किया। उन्‍होंने वाराणसी घाटों के भित्तिचित्रों के साथ पंडित मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा का अनावरण किया। श्री मोदी ने पंडित मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर पुष्‍पांजलि अर्पित की। उत्‍तर प्रदेश के राज्‍यपाल श्री राम नाइक, उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री श्री योगी आदित्‍यनाथ और अन्‍य गणमान्‍य व्‍यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।


उन्‍होंने पंडित मदन मोहन मालवीय कैंसर अस्‍पताल और भाभा कैंसर अस्‍पताल, लहर तारा का उद्घाटन किया। ये अस्‍पताल उत्‍तर प्रदेश और आस-पास के राज्‍यों मध्‍य प्रदेश, छत्‍तीसगढ़, झारखंड और बिहार के मरीजों को बेहतर इलाज उपलब्‍ध करायेंगे।


प्रधानमंत्री ने उच्‍च प्रौद्योगिकी से युक्‍त पहले न्‍यू भाभाट्रोन को राष्‍ट्र को समर्पित किया। उन्‍होंने डे केयर यूनिट और ओपीडी का दौरा किया और मरीजों के साथ बातचीत की। प्रधानमंत्री ने पीएमकेवाई – आयुष्‍मान भारत के लाभार्थियों के साथ भी बातचीत की।


***


 


गुरु रविदास की जन्म स्थली विकास परियोजना के शिलान्यास समारोह में प्रधानमंत्री के सम्‍बोधन का मूल पाठ 


 


मंच पर उपस्थि‍त सभी महानुभाव और देश और दुनिया के अलग-अलग हिस्‍से से आज इस पवित्र दिवस पर यहां पधारे हुए मेरे सभी प्‍यारे भक्‍तजन भाइयों और बहनों।


श्री गुरू रविदास जी की जयंती के अवसर पर मैं आप सभी को और दुनियाभर में फैले उनके सभी अनुयायियों समेत हर देशवासी को बहुत-बहुत बधाई देता हूं।


मुझे आज बेहद प्रसन्‍नता है कि गुरू रविदास की कृपा उनके आशीर्वाद से मैं अपना वादा निभाने आप सभी के बीच फिर से आया हूं। साल 2016 में आज ही के पवित्र दिवस पर मुझे यहां मत्‍था टेकने और लंगर छकने का अवसर मिला था। तब मैंने इस पूरे प्रांगण और गुरू के जन्‍म स्‍थान के सुंदरीकरण और उसको विकसित करने की बात आप सबको कही थी। उसके बाद जब यूपी में योगी जी अगुवाई में सरकार बनी तो मैंने उनसे एक व्‍यापक प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट बनाने का आग्रह किया था। मुझे प्रसन्‍नता है कि जिसकी मांग आप दशकों से कर रहे थे, जिसकी आवश्‍यकता यहां महसूस हो रही थी। सरकारें आती गई, बाते करती गई, लेकिन आपकी आशा कभी पूरी नहीं हुई, उसको पूरा करने की तरफ आज एक मंगल कार्य का आरंभ हुआ है। शुभ शुरूआत हुई है।


सभी भक्‍तजन पहले चरण में लगभग 50 करोड़ रुपये की लागत से विस्‍तारीकरण और सुंदरीकरण की योजना बनाई गई है। इसके तहत यहां के लिए जो बीएचयू से सड़क आती है उसको सजाया-संवारा जाएगा। 12 किलोमीटर का एक और रास्‍ता बनेगा। गुरू रविदास जी की कांस्‍य की प्रतिमा बनेगी। एक मार्ग का निर्माण होगा। कम्‍युनिटी हॉल बनेगा और दूसरी जन-सुविधाओं का निर्माण भी होगा। यानि इस प्रोजेक्‍ट के पूरा होने के बाद आपको और यहां आने वाले लाखों श्रद्धालुओं को एक प्रकार से सारी सुविधाएं एक ही जगह पर मिल जाएगी।


साथियों, संत रविदास जी की जन्‍म स्‍थली करोड़ों लोगों के लिए आस्‍था और श्रद्धा का स्‍थल तो है ही और यहां के सांसद के नाते, आपके प्रतिनिधि के नाते मेरा यह सौभाग्‍य है कि इस पवित्र धरती की सेवा करने का कुछ मुझे भी सौभाग्‍य मिला है। भारत के सामाजिक जीवन को दिशा देने और प्रेरित करने वाली यह भूमि है। संत रविदास जी के विचारों का विस्‍तार असीम है। उन्‍होंने जो दर्शन दिया है वही सही जीवन जीने का रास्‍ता और वह भी बहुत सरल तरीके से दिखाता है। रविदास कहते हैं -  


ऐसा चाहू राज मैंजहां मिले सबन को अन्‍न,


छोट-बड़ो सब समान बसेरविदास रहे प्रसन्‍न।


 


यानि गुरूजी ने ऐसे भारत की कल्‍पना की थी जहां बिना किसी भेदभाव के सबकी मूल आवश्‍यकताओं का ध्‍यान रखा जाए।


 


साथियों, केंद्र की सरकार बीते साढ़े चार वर्ष से इसी भावना को पूरी ईमानदारी से जमीन पर उतारने की भरसक कोशिश कर रही है। ‘सबका साथ, सबका विकास’ और विकास की पंचधारा यानि बच्‍चों को पढ़ाई, युवा को कमाई, बुजुर्गों को दवाई, किसान को सिंचाई और जन-जन की सुनवाई, यही सुनिश्चित करने में हमारी सरकार लगातार प्रयास कर रही है, जुटी हुई है। अब से कुछ देर बाद ही मैं बनारस में दो कैंसर अस्‍पतालों सहित अनेक स्‍वास्‍थ्‍य सुविधाओं का उद्घाटन और लोकार्पण करने के लिए भी जा रहा हूं। इसके अतिरिक्‍त, वाराणसी और पूर्वांचल का जीवन आसान बनाने वाली दूसरी अनेक परियोजनाएं भी आज से शुरू हो रही है। इन सभी सुविधाओं का लाभ समाज के हर वर्ग को समान रूप से मिलने वाला है।


भाइयों और बहनों, हमारी सरकार का हर कदम हर योजना पूज्‍य श्री गुरू रविदास जी की भावना के अनुकूल है। गरीब परिवारों को पक्‍के घर, हर घर को अपना शौचालय, हर परिवार को उज्‍ज्‍वला के तहत गैस का सिलेंडर, गरीब को मुफ्त में बिजली का कनेक्‍शन, गरीब परिवार को पांच लाख रुपये तक मुफ्त का ईलाज, गरीब और मध्‍यम वर्ग के युवाओं को बिना गारंटी बैंक से मुद्रा योजना के तहत ऋण, किसान के खेत तक सिंचाई का पानी पहुंचाना और अब देश के लगभग 12 करोड़ गरीब किसान परिवारों को हर वर्ष छह हजार रुपये की सीधी मदद और यह तो अभी शुरूआत है। ऐसी अनेक योजनाएं हैं, जो समाज के उस वर्ग को ऊपर उठाने के लिए चलाई जा रही है, जो हमेशा से उपेक्षित रहे, वंचित रहे।


गुरूदेव कहा करते थे, न कोई जात, न कोई वर्ग, न कोई संप्रदाय किसी भी भेद से ऊपर एक इंसान के नाते सभी को इन योजनाओं का एक जैसा लाभ मिले और मुझे संतोष है कि मिल रहा है। साथियों,पूज्‍य संत रविदास जी, इसी प्रकार का समाज चाहते थे, जहां जाति और वर्ग के आधार पर समाज में कोई भेद न हो। उन्‍होंने कहा था -  


जाति-जाति में जाति हैजो केतन के पात।


रैदास मनुष ना जुड़ सकेजब तक जाति न जात।।


 


मतलब जाति केले के पत्‍तों की तरह है, जहां पत्‍तों के भीतर पत्‍ते होते हैं। जातियों में भी ढेर सारी जातियां हैं। ऐसे में जब तक जाति के नाम पर किसी से भेदभाव होगा, तब तक सभी मनुष्‍य एक दूसरे से पूरी तरह नहीं जुड़ पाएंगे। सामाजिक समरसता संभव नहीं होगी, सामाजिक एकता संभव नहीं होगी, समाज में समता नहीं आएगी, साथियों गुरू के दिखाए इस रास्‍ते पर अगर पूरी ईमानदारी के साथ हम चलते तो आज का भारत जातियों के नाम पर होने वाले अत्‍याचारों से मुक्‍त हो चुका होता, लेकिन दुर्भाग्‍य से ऐसा हो नहीं पाया।


भाइयों और बहनों, नया भारत इस स्थिति को बदलने वाला है। हमारे नौजवान साथी, जो डिजिटल इंडिया के दौर में तकनीक के युग में सामाजिक और राजनीतिक व्‍यवस्‍था का हिस्‍सा बन रहे हैं। हम सभी इस स्थिति को बदलने वाले हैं। हमें उन लोगों के स्‍वार्थ को पहचानना होगा, जो सिर्फ अपना दाना-पानी अपने राजनीतिक स्‍वार्थ के लिए जात-पात को उभारते रहते हैं।


साथियों, एक और बुराई की तरफ गुरू ने हमारा ध्‍यान दिलाया है, जिसके कारण हमारे देश को, हमारे समाज को, बहुत बड़ी हानि हुई है। यह बुराई है बेईमानी की, दूसरों के हक को मारकर अपना हित साधने की। गुरू जी ने कहा था –


श्रम कऊ इसर जानी केईजऊ पुजे ही दिन-रैन।


यानि सच्‍चा श्रम ही ईश्‍वर का रूप होता है। ईमानदारी से जो काम किया जाता है, उसकी कमाई से ही जीवन में सुख और शांति मिलती है। गुरूजी की इस भावना को बीते साढ़े चार वर्ष में हमारे राजनीतिक और सामाजिक संस्‍कारों में ढालने का प्रयास हमारी सरकार ने किया है। नोटबंदी हो, बेनामी संपत्ति के खिलाफ की जा रही कठोर कार्रवाई हो या फिर काले धन की प्रवृत्ति के खिलाफ सख्‍ती से उस प्रवृत्ति को खत्‍म करने का प्रयास है जिसको व्‍यवस्‍था का हिस्‍सा बना लिया गया। भारत में यह सब चलता है। इस तरह की मानसिकता घर कर गई है।


साथियों, संत रविदास जी के आशीर्वाद से नये भारत में बेईमानी के लिए भ्रष्‍ट आचरण के लिए कोई स्‍थान नहीं हो सकता है। जो ईमानदारी से अपने श्रम से आगे बढ़ना चाहता है, उसके लिए सरकार हर स्‍तर पर कंधे से कंधा मिला करके खड़ी मिलेगी। हाल में आप सभी ने भी देखा होगा कि जो ईमानदारी से कर देते है, Tax देते हैं, ऐसे करोड़ों मध्‍यम वर्ग के साथियों की पांच लाख रुपये तक की कर योग्‍य आय से Tax हटा दिया गया है। एक तरफ जनता का पैसा लूटने वालों को सजा दी जा रही है। दूसरी तरफ ईमानदारी का सम्‍मान भी किया जा रहा है।


भाइयों और बहनों, हम सभी भाग्‍यशाली है, जिनको गुरूओं का, संतो, ऋषियों का, मुनियों का, मनीषियों का मार्ग दर्शन मिला है। गुरूओं का यह ज्ञान यह महान परंपरा ऐसे ही हमारी पीढि़यों को रास्‍ता दिखाती रहे, इसके लिए भी हमारी सरकार निरंतर प्रयास कर रही है। पिछले वर्ष ही मगहर में संत कबीर जी से जुड़े स्‍मारक की आधारशिला रखने मैं खुद गया था। इसी तरह, सारनाथ में भगवान बुद्ध से जुड़े संस्‍कारों को पवित्र स्‍थानों को संरक्षित किया गया है, सुंदरीकरण किया गया है। इसी प्रकार हम गुरूनानक देव जी की 550वीं जन्‍म जयंती के समारोहों को पूरी दुनिया में व्‍यापक स्‍तर पर मना रहे हैं।


भाइयों और बहनों, हमारे देश के लिए, हमारे समाज के लिए जिन्‍होंने भी अपना योगदान दिया है उसको पूरी श्रद्धा के साथ सम्‍मान मिले, इसके लिए हमारी सरकार, भारत सरकार और राज्‍य उत्‍तर प्रदेश की सरकार पूरी तरह समर्पित है। हमारी यह समृद्ध सांस्‍कृतिक धरोहर हमारी शक्ति है, हमारी प्रेरणा है। आपका जीवन आसान हो, इसके लिए गुरू रविदास जी के दिखाए रास्‍ते को हम और सशक्‍त करने वाले हैं। एक बार फिर आप सभी को पूज्‍य गुरू रविदास जी की जयंती, जन्‍म स्‍थली के विस्‍तारीकरण के प्रोजेक्‍ट के लिए बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। आप सबका बहुत-बहुत धन्‍यवाद करता हूं और पूज्‍य गुरू महाराज जी के चरणों में नमन करते हुए मेरी वाणी को विराम देता हूं। बहुत-बहुत धन्‍यवाद।


 


 


प्रधानमंत्री ने वाराणसी की यात्रा की

डीजल से विद्युत में परिवर्तित पहले इंजन को झंडी दिखाई

गुरु रविदास जन्‍म स्‍थान विकास परियोजना का शिलान्‍यास किया गया

सरकार भ्रष्‍टाचारियों को सजा दे रही है, ईमानदार लोगों को इनाम दे रही है : प्रधानमंत्री


 


प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के वाराणसी की यात्रा की। उन्‍होंने गुरु रविदास जन्‍म स्‍थान विकास परियोजना का शिलान्‍यास किया।


प्रधानमंत्री ने वाराणसी में डीजल से विद्युत में परिवर्तित पहले इंजन को झंडी दिखाई।


 


प्रधानमंत्री ने वाराणसी के डीजल लोकोमोटिव वर्क्‍स में डीजल से विद्युत में परिवर्तित
पहले इंजन को झंडी दिखाते हुए


 


भारतीय रेल के शत-प्रतिशत विद्युतीकरण मिशन को ध्‍यान में रखते हुए डीजल लोकोमोटिव वर्क्‍स, वाराणसी ने डीजल इंजन को विद्युत इंजन में विकसित किया है। प्रारंभिक परीक्षणों के बाद प्रधानमंत्री ने इंजन का निरीक्षण किया और इसे झंडी दिखाई। भारतीय रेल ने निर्णय लिया है कि सभी डीजल इंजनों को विद्युत इंजनों में परिवर्तित किया जाएगा। इस परियोजना से ऊर्जा की बचत होगी और कार्बन उत्‍सर्जन में कमी आएगी। डीजल लोकोमोटिव वर्क्‍स ने सिर्फ 69 दिनों में दो डब्‍ल्‍यूडीजी3ए डीजल इंजनों को 10,000 एचपी की क्षमता वाले एक विद्युत इंजन डब्‍ल्‍यूएजीसी3 में परिवर्तित किया। यह एक ‘‘मेक इन इंडिया’’ पहल है। इंजन में यह परिवर्तन पूरी तरह भारतीय शोध और विकास पर आधारित है। पूरे विश्‍व में अपनी तरह का यह इकलौता कार्यक्रम है।


प्रधानमंत्री श्री गुरु रविदास की प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए


 


रविदास जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने श्री गुरु रविदास की प्रतिमा पर श्रद्धांजलि दी। इसके बाद प्रधानमंत्री ने श्री गुरु रविदास जन्‍म स्‍थान मन्दिर, गोवर्धनपुर में गुरु रविदास जन्‍म स्‍थान विकास परियोजना का शिलान्‍यास किया।


गरीब व कमजोर तबकों के लिए शुरू की गई सरकारी परियोजनाओं के बारे में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हमने गरीबों के लिए आरक्षण की व्‍यवस्‍था की है ताकि उपेक्षित लोग सम्‍मान की जिंदगी व्‍यतीत कर सकें।


प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि रहस्‍यवादी कवि के उपदेश हमें प्रतिदिन प्रेरणा देते हैं। उन्‍होंने कहा कि लोग एक-दूसरे से संवाद स्‍थापित नहीं कर सकते और समाज में समानता नहीं हो सकती यदि जाति आधारित विभेद मौजूद रहेगा। उन्‍होंने लोगों से आग्रह किया कि वे संत रविदास द्वारा दिखाए गए मार्ग का अनुसरण करें। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि इस परियोजना के अंतर्गत संत रविदास की प्रतिमा के साथ एक विशाल पार्क का निर्माण किया जाएगा। पार्क में तीर्थ यात्रियों के लिए सभी प्रकार की सुविधाएं होंगी।


***


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,