प्रसपा ने सरकार के जनविरोधी नीतिओं के खिलाफ किया प्रदेशव्यापी प्रदर्शन

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिहं यादव के आह्वान पर प्रदेश में बिगड़ते कानून व्यवस्था,सरकार की जनविरोधी नीतियों व गरीब, मजदूरों, वंचितों, किसानों, मध्यवर्ग और छोटे व्यापारियों से जुड़ी समस्याओं को लेकर बुधवार को प्रदेश के समस्त जिला मुख्यालयों पर पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा प्रदर्शन किया गया। इसी कड़ी में लखनऊ में भी वरिष्ठ समाजवादी नेता भगवती सिंह, मुख्य प्रवक्ता सीपी राय व लखनऊ जिला /महानगर इकाई बिन्नू शुक्ला व अजय त्रिपाठी 'मुन्ना' के नेतृत्व में बेगम हजरत महल पार्क से प्रसपा लोहिया के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने जनसमस्याओं को लेकर प्रदर्शन किया और कलेक्ट्रेट पहुंचकर पार्टी की 42 मांगों के साथ जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया।


प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) ने इस दौरान बीजेपी सरकार के खिलाफ प्रदेशव्यापी विरोध -प्रदर्शन किया व धरना दिया। इस दौरान प्रसपा के नेताओं ने प्रदेश के हर जिले में जिलाधिकारी को मांग पत्र व ज्ञापन सौंपा।


यह प्रदर्शन प्रदेश में किसान अयोग का गठन, पिछड़ों की जाति आधारित जनगणना कराना, महिलाओं की सुरक्षा, बेरोजगारों को रोजगार या बेरोजगारी भत्ता, अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचार व पक्षपात, शिक्षामित्रों के लिए भारत सरकार द्वारा कानून बनाकर उनका समायोजन, जंगल राज खत्म हो, भ्रष्टाचार पर सख्ती से रोक लगे, गरीबी हटाओ रोजगार दिलाओ, दैनिक मजदूरी बढ़ाने के लिए, आर्थिक समानता, तेल नीति में संशोधन, आवारा पशुओं का उचित प्रबंध, पुरानी पेंशन नीति को लागू करने आदि जैसे मुद्दों के लिए हुआ।


आज हुए प्रदर्शन में प्रदेश के हर जिले से भारी हुजूम उमड़ने की खबर आ रही है। प्रदर्शन के दौरान प्रसपा नेता बेहद ही आक्रोशित नजर आये । इस दौरान प्रसपा कार्यकार्ताओं ने केंद्र सरकार व राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। प्रसपा के इस प्रदेशव्यापी प्रदर्शन को व्यापक जनसमर्थन मिला। हर जिले में भारी जनसमूह ने एक तयशुदा केंद्र से जिलाधिकारी कार्यालय की ओर मार्च किया। मार्च के दौरान बूढ़े, नौजवान, महिवाएं व समाज के हर वर्ग के लोगों ने इस प्रदर्शन में हिस्सा लिया।


पार्टी के मुख्य प्रवक्ता डॉ सीपी राय ने राजधानी में पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि केंद्र और प्रदेश की सरकारें अपने सारे वादे पूरे करने में असफल रही हैं। किसान आत्महत्या कर रहा है, नौजवान पिट रहा है। कानून व्यवस्था ध्वस्त है और देश में बदहाली फैली हुई है। “कुर्सी खाली करो” के कार्य को लेकर हम लोग निकले हैं। हमारा मानना है कि अगर आप कुर्सी पर बैठकर कुछ कर नहीं सकते तो कुर्सी छोड़ दीजिये। हमारा ये प्रदर्शन सरकार के खिलाफ है। वहीं औरया में प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे पार्टी महासचिव आदित्य यादव ने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिहं यादव के आह्वान पर आज पूरे प्रदेश में प्रसपा के कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार से हमारी मांग है कि किसानों को उनका हक़ दिया जाए। देश और प्रदेश से बेरोजगारी हटाई जाए और महंगाई को कंट्रोल किया जाए। 


आगरा में प्रसपा के प्रदेश अध्यक्ष सुन्दर लाल लोधी व लोहिया वाहिनी के प्रदेश नितिन कोहली के नेतृत्व में जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया. इसी क्रम में फिरोजाबाद में देवेन्द्र गुप्ता, मथुरा में युवजन सभा के प्रदेश अध्यक्ष विजय यादव, एटा में डॉ रक्षपाल सिंह, कासंगज में आशीष यादव‘आशू (पूर्व विधायक), हाथरस में धर्मवीर यादव‘विट्टू’,कानपुर देहात में प्रमोद गुप्ता (पूर्व विधायक), कानपुर में राम नरेश यादव (पूर्व एमएलसी), फर्रूखाबाद में रघुराज शाक्य (पूर्व सांसद), इटावा में सुनील यादव, कन्नौज में राम बाबू यादव (पूर्व मंत्री), औरैया में आदित्य यादव (राष्ट्रीय महासचिव), झांसी में छत्रपाल सिंह यादव, ललितपुर में दीपमाला कुशवाहा,जालौन में विष्णुपाल सिंह ‘नन्हू राजा, बांदा में राम शरण यादव, हमीरपुर में आशीष चौबे, महोबा में सुजान सिंह यादव, चित्रकूट में  दीपक त्रिपाठी, इलाहाबाद  में एसपी पाण्डेय, फतेहपुर में सर्वेश कटियार, प्रतापगढ़में  लल्लन राय, कौशाम्बी में समरजीत सिंह, वाराणसी में दिनेश यादव


व फैजुल खान, जौनपुर में देवेन्द्र सिंह, चन्दौली में बहादुर सिंह यादव(पूर्व मंत्री), गाजीपुर में सैय्यदा शादाब फातिमा (पूर्व मंत्री),मिर्जापुर में जय सिंह, भदोही में डॉ सूबेदार सिंह, सोनभद्र में सुधीर सिंह, आजमगढ़ में वीरपाल यादव, बलिया में नीरज सिंह गुड्डू, विद्युत प्रकाश यादव, मऊ में हाफिज इरशाद (पूर्व विधायक), गोरखपुर में जय प्रकाश यादव (पूर्व मंत्री) व दीपक मिश्र राष्ट्रीय अध्यक्ष, बौद्धिक सभा, देवरिया में कुँवर प्रताप सिंह, कुशीनगर में अमरेश प्रताप सिंह, महाराजगंज में अजीतमणि त्रिपाठी, बस्ती में बाबू राम निषाद, सिद्धार्थनगर में गौतम यादव, संतकबीरनगर में अनिल सिंह राणा, गोण्डा में श्रीपति सिंह, बहराइच में नवाब अली अकबर, श्रावस्ती         में फहीमुर्रहमान ‘मण्टू काज़ी’, बलरामपुर में आपदा हरण सिंह, फैजाबाद में कमाल यूसुफ मलिक, अम्बेडकर नगर में फजलुर्रहमान व महेन्द्र यादव, बारावंकी में अर्चना राठौर ( राष्ट्रीय अध्यक्ष, महिलासभा) व संदीप मौर्या,सुल्तानपुर में प्रेम प्रकाश वर्मा, अमेठी में सत्यजीत अटावलेव  शेरजंग बहादुर सिंह, लखनऊ में वरिष्ठ समाजवादी नेता भगवती सिंह व मुख्य प्रवक्ता डॉ सीपी राय, लखीमपुर खीरी में लखन प्रताप सिंह व अरविन्द यादव , हरदोई में ओमप्रकाश ‘पप्पू यादव’व वीरेन्द्र मौर्या, रायबरेली में नूरुल हसन बाबा, सीतापुर में राजीव गुप्ता व अनिल वर्मा, उन्नाव में पूर्व मंत्री शारदा प्रताप शुक्ला, बरेली में मोहम्मद शाहिद, बदायॅू में मानिक चन्द्र यादव (पूर्व विधायक) , पीलीभीत में फरहत हसन खां (प्रदेश उपाध्यक्ष), शाहजहाॅपुर में  जर्रार हुसैन (प्रदेशअध्यक्ष), अल्पसंख्यक,          मुरादाबाद में शराफत यार खां (पूर्व विधायक), बिजनौर में राजेश यादव, रामपुर में राजा मुहम्मद नसीम खां ,अमरोहामें महबूब सकलैनी, सम्भल में डा आरिफ नूरी,मेरठ में रिछपाल सिंह चौधरी व डा0 मरगूब त्यागी, गाजियाबाद में चौधरी शीशपाल सिंह, हापुड़ में लोकेश भाटीप्रदेश अध्यक्ष, छात्रसभा, बुलन्दशहर में ठाकुर रणवीर सिंह, शामली में इस्लाम प्रधान, गौतमबुद्ध नगर में रवि यादव, बागपत में महेन्द्र यादव, सहारनपुर में चक्रपाणि यादव, मुजफ्फरनगर में  सेवाराम कसाना के नेतृत्व में जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,