भविष्य में इम्पैनलमेंट के लिए जो भी प्रक्रिया अपनाई जाये, वह कार्मिक विभाग द्वारा निर्धारित मानकों के अनुरूप हो-लघु उद्योग मंत्री

लखनऊ, दिनांक 23 अक्टूबर 2019

     उत्तर प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री श्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने आज उ0प्र0 लघु उद्योग निगम द्वारा पूर्व में की गई एजेंसियांे केे इम्पैनलमंेट को तत्काल प्रभाव से निरस्त करने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा कि भविष्य में इम्पैनलमेंट के लिए जो भी प्रक्रिया अपनाई जाये, वह कार्मिक विभाग द्वारा निर्धारित मानकों के अनुरूप होनी चाहिए। उन्होंने यथाशीघ्र नई एजेंसियों के चयन हेतु मानकों के अनुसार टेण्डर कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए।  

      श्री सिंह आज अपने सरकारी आवास पर लघु उद्योग निगम के कार्यों की गहन समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने नराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि लघु उद्योग निगम की कार्य प्रणाली वर्तमान में संतोषजनक नहीं है, जिसके कारण निगम में पंजीकृत एजेंसियांे के कारण बहुत से विभागों में कर्मियों को वेतन/मानदेय नहीं मिल पा रहा है। इससे सरकार की छवि पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। उन्होंने स्पष्ट तौर से निर्देश दिये कि अब निगम द्वारा जो भी नई एजेंसियों सूचीबद्ध की जायेंगी, उसकी अनुमति बोर्ड से प्राप्त करना आवश्यक होगा।

      लघु उद्योग मंत्री ने कहा कि लघु उद्योग निगम द्वारा पिछले कुछ समय से सूचीबद्ध एजेंसियों के माध्यम से जो भी आउटसोर्सिंग के तहत नियुक्तियां की गई हैं, उनमें भारी अनियमितता प्रकाश में आयी है। इन नियुक्तियों के लिए बोर्ड से मंजूरी भी नहीं ली गई थी। जो नियमों के विरूद्ध है। उन्होंने लघु उद्योग निगम के प्रबंध निदेशक को कड़ी चेतावनी देते हुए निर्देशित किया कि भविष्य में आउटसोर्सिंग के लिए इम्पैनलमेंट की जाने वाली एजेंसियांे के चयन में पारदर्शिता बरती जाय और किसी भी प्रकार अनियमितता पाये जाने पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जायेगी।

       बैठक में प्रमुख सचिव सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम डा0 नवनीत सहगल सहित लघु उद्योग निगम के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,