भविष्य में पानी की जरूरतों को पूरा करने के लिए कार्ययोजना शीघ्र जल संचयन व प्रबंधन के क्षेत्र में विख्यात कंपनियों ने दिए सुझाव

लखनऊ, दिनांक 24 अक्टूबर 2019

 

प्रमुख सचिव सिंचाई एवं जलसंसाधन तथा परती भूमि विकास श्री टी0 वेंकटेश ने कहा है कि भविष्य मेें पानी की जरूरतों को पूरा करने तथा इसका कुशल प्रबंधन एवं विवेकपूर्ण उपयोग किये जाने के लिए एक कारगर रणनीति बनाते हुए इसे लागू किया जायेगा।

प्रमुख सचिव ने यह जानकारी देते हुए बताया कि बुधवार को आयोजित दो दिवसीय संगोष्ठी में जल प्रबंधन एवं संचयन से जुड़ी नामी-गिरामी कंपनियों ने प्रस्तुतीकरण देकर प्रदेश में जल संचयन के क्षेत्र में कार्य करने की इच्छा जताई। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 की भौगोलिक स्थिति व क्षेत्रों के हिसाब से अलग-अलग है। कहीं पर भूजल स्तर बहुत नीचे चला गया है तो कहीं पर सिंचाई के लिए पर्याप्त जल मौजूद है।

जल संचयन के क्षेत्र में कार्य करने वाली मेसर्स जिंदल सा लिमिटेड नई दिल्ली, एस0आर0एम0 प्लास्टोकेम प्रा0लि0 कोटा राजस्थान तथा नेटाफेम इरीगेशन प्रावेट लि0 बड़ोदरा ने अपने प्रस्तुतीकरण में उपलब्ध संसाधनों का समुचित उपयोग करते हुए पानी को बढ़ाने के लिए सुझाव दिया। इसके साथ ही सिंचाई के बेहतर तरीके अपनाते हुए कम पानी से अधिक उत्पादन प्राप्त करने के तरीके बताये।

इन कंपनियों ने पानी की कमी दूर करने एवं पैदावार बढ़ाने के लिए ड्रिप एवं स्प्रिंकलर सिंचाई पद्धति अपनाने पर जोर दिया। यह दोनों पद्धतियां ऊँची-नीची जमीन की सिंचाई के लिए सबसे कारगर उपाय है। इसके माध्यम से सिंचाई करके कम जल खपत करके अधिकतम उत्पादन तथा बहु-फसली पैदावार प्राप्त की जा सकती है। हर घर नल से जल के लिए शुरू की गयी जल जीवन मिशन योजना तथा हर खेत को पानी उपलब्ध कराने के लिए जल संचयन बहुत जरूरी है। 

प्रमुख सचिव ने कहा कि वर्षा का जल समुद्र में चला जाता है। इसको संचित करके भूजल स्तर रिचार्ज करने के साथ ही पेयजल एवं सिंचाई के लिए पर्याप्त जल व्यवस्था की जा सकती है। इस संगोष्ठी के पहले सत्र में में0 तहल इजराइल, आईआईटी रूढ़की वाप्कोस लि0 भारत सरकार का उपक्रम, आईडब्ल्यूएमआई, वाटर रिसोर्स ग्रुप, आईसीआरआई तथा टीईआरआई ने भी जल संसाधन प्रबंधन एवं पुनर्गठन संबंधित अपने अनुभवों का साझा करते हुए उ0प्र0 में सहयोग देने की बात कही।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,