फिक्की फ्लो का तीन दिवसीय अन्र्तराज्यीय सम्मेलन प्रारंभ मालिनी अवस्थी ने किया मीना बाजार का शुभारंभ


लखनऊ 22 नवंबर। फिक्की फ्लो लखनऊ द्वारा तीन दिवसीय अन्र्तराज्यीय सम्मेलन का प्रारंभ आज यहां होटल हयात रीजेन्सी में किया गया। यहां पहले दिन मीना बाजार का आयोजन भी किया गया।  
मुगलकाल में शहर में प्रमुख बाजारों की एक गली को लेकर वहां मीना बाजार लगाया जाता था। इसी बात को ध्यान में रख कर फिक्की फ्लो ने आज होटल हयात में मीना बाजार नामक प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। इस प्रदर्शनी में भाग लेनें के लिए फिक्की फ्लो ने पूरे भारत वर्ष से फिक्की फ्लो के सभी चैप्टर से लगभग 300 सदस्यों और पदाधिकारियों को आमंत्रित किया है और इसे अपने वर्षिक अन्तराज्यीय बैठक का स्वरूप दिया है।
इस प्रदर्शनी का उद्घाटन देश की सुप्रसिद्व लोक गायिका पद्मश्री मालिनी अवस्थी और फिक्की फ्लो की राष्ट्रीय अध्यक्ष हरविंदर कौर ने किया।
बांसुरी के मधुर संगीत और जगमगाती रोशनियो और आकर्षक स्टालो पर देश भर से आए लगभग 300 फ्लो सदस्यों ने जमकर खरीददारी की। साडी, सूट, लहंगा, सरारा, गेरूआ, दुपट्टा और स्टोल के स्टाल विशेष रूप से आगन्तुको को आकर्षित कर रहे थे। इस सभी स्टालो में उत्तर प्रदेश की सभी प्रकार की हस्तकला जैसे मुकेश से लेकर चिकनकारी तक, बनारसी साडियो से लेकर जरदोजी, टिल्ला और पिट्टा का काम विशेष रूप से इस प्रदर्शनी में देखने को मिला इसके अलावा बाजार में नाजुक चप्पल और जूती, पोटली और अन्य आकर्षक घरेलू उत्पाद उत्तर प्रदेश के स्थानीय कारीगरों की कला को भी प्रदर्शित कर रहे थे।
इस दिन को यादगार बनाने के लिए देवा शरीफ से आये कव्वालों ने अपने सूफी संगीत और कव्वालियों से श्रोताओं का मन मोह लिया। इस मीना बाजार में अवध के अल्पज्ञात दुर्लभ आभूषणों का भी प्रदर्शन किया गया।
फ्लोे की अध्यक्ष हरविन्दर कोैर तलवार ने कहा कि, “अंतरराज्यीय बैठक हमारे गतिशील अखिल भारतीय सदस्यों के प्रदर्शन, परामर्श और नेटवर्किंग साझा करने के अनुभव के लिए एक सामान्य मंच है। हमारा उद्देश्य पूरे भारत में दिल्ली और 16 अध्यायों से महिला उद्यमियों और पेशेवरों को एक साथ लाना है, विचारों के आदान-प्रदान और मन की बैठक के लिए एक आदर्श मंच प्रदान करना है। हमारा प्रयास नेतृत्व करने के लिए बुद्धि विकसित करना है साथ ही महिलाओं के लिए मजबूत आवाज के रूप में एक साथ आना। ”
इस प्रदर्शनी के बारे में बताते हुए फिक्की फ्लो लखनऊ चैप्टर की अध्यक्षा माधुरी हलवासिया ने कहा कि यह बहुत गर्व की बात है कि लखनऊ इस बार फिक्की फ्लोे के वार्षिक अंतराज्यीय सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है। इस प्रर्दशनी के माध्यम से  हम स्थनीय कला और कारीगरो की प्रतिभा का प्रदर्शन कर रहे है। हमरा उद्ेश्य यह है कि देशभर से आए फिक्की फ्लोे के सदस्यो के माध्यम से हमारे प्रदेश की कला का देश में प्रचार हो। और यह हमारे लिए बहुत ही गर्व और  संतोष का अनुभव रहा है।
इस प्रदर्शनी में 30 स्टाल लगे और इसमें हमारी राष्ट्रीय अध्यक्षा हरविन्दर कोैर सहित 300 फ्लो सदस्यों ने भाग लिया।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,