संविधान दिवस के अवसर पर इग्नू द्वारा उद्यमिता विकास पर कार्यशाला का आयोजन


इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय, क्षेत्रीय केन्द्र, लखनऊ द्वारा संविधान दिवस के अवसर पर विद्यार्थियों को उद्यमिता विकास हेतु प्रोत्साहित करने के लिए एक दिवसीय कार्याशाला का आयोजन दिनांक 26 नवम्बर 2019 को क्षेत्रीय केन्द्र पर किया गया, जिसका विषय था - इन्नोवेटिव आइडियास फाॅर न्यू स्टार्टअप। इस कार्यक्रम में लगभग 300 विद्यार्थियों ने भाग लिया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में श्रीमती कान्ती सिंह, सदस्य, विधान परिषद्, उत्तर प्रदेश रहीं। विशिष्ठ अतिथि के रूप में श्री अनिल कुमार सिंह, वरिष्ठ प्रबन्धक, उत्तर प्रदेश खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड व श्री पी0 के0 पुंडीर, उपनिदेशक, रोजगार एवं प्रशिक्षण विभाग, उत्तर प्रदेश रहे।


सहायक क्षेत्रीय निदेशक डाॅ0 कीर्ति विक्रम सिंह ने अतिथियों का स्वागत किया एवं अपने उद्बोधन में कार्यशाला के उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए बताया कि हमारे संविधान के नीति निर्देशक तत्वों में कहा गया है कि राज्य अपने समस्त नागरिकों को जीविका के साधन प्राप्त करने का समान अधिकार प्रदान करेगा। इसी को दृष्टिगत् रखते हुए इस कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसका उद्देश्य विद्यार्थियों में उद्यमिता की भावना को विकसित करना है एवं उन्हें इसके महत्व के विषय में अवगत कराना है। साथ ही साथ उन्हें खादी ग्रामोद्योग बोर्ड एवं रोजगार एवं प्रशिक्षण विभाग, उत्तर प्रदेश द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के विषय में अवगत कराना है। इस कार्यशाला में विद्यार्थियों को सरकार द्वारा युवाओं के स्टार्टअप हेतु आर्थिक सहयोग के लिए चलाई जा रही योजनाओं के विषय में बताया गया।


क्षेत्रीय निदेशिक डाॅ0 मनोरमा सिंह ने अपने उद्बोधन में कहा कि संविधान में ऐसी व्यवस्था की गयी है कि राज्य अपने नागरिकों को मानवोचित रूप से कार्य करने का अवसर प्रदान करे, जिससे कि वे अपने जीवन स्तर को ऊँचा कर सकें। इसी को ध्यान में रखते हुए विश्वविद्यालय के नेशनल सेन्टर फाॅर इन्नोवेशंस इन डिस्टेन्स एडुकेषन, इग्नू, नई दिल्ली द्वारा विद्यार्थियों में उद्यामिता विकास हेतु प्रयासरत् है। उन्होनें कैम्पस प्लेसमेण्ट सेल, इग्नू क्षेत्रीय केन्द्र, लखनऊ द्वारा विद्यार्थियों को रोजगार प्रदान करने हेतु बनायी गयी रणनीति के विषय में प्रकाश डाला और बताया कि क्षेत्रीय केन्द्र, लखनऊ का हमेशा से यह प्रयास रहा है कि वे अपने विद्यार्थियों को रोजगारपरक शिक्षा उपलब्ध कराये साथ ही साथ उनके प्रशिक्षण की व्यवस्था करता है। उन्होनें इग्नू द्वारा कौशल उन्नयन हेतु चलाये जा रहे कार्यक्रमों के बारे में विस्तार से चर्चा की।


श्रीमती कान्ती सिंह, सदस्य, विधान परिषद्, उत्तर प्रदेश ने वैश्वीकरण के दौर में उद्यमिता के क्षेत्रों के विषय में अपने विचार रखे एवं सरकार द्वारा युवाओं के नवाचारों को सहयोग प्रदान करने वाली संस्थाओं के बारे में बताया। उन्होनें कहा कि अगर युवा कोई ऐसा स्वरोजगार करता है, जिससे समाज एवं देश का विकास होता है, तो उसे निश्चित ही सफलता मिलती है। उन्होनंे अपने उद्बोधन में कहा कि प्रत्येक व्यक्ति के पास अपनी एक विशेष प्रतिभा होती है, जिसके माध्यम से वे अपने करियर नई उच्चाइयों तक पहुँचा सकता है, इसके लिए आवश्यक है कि व्यक्ति में आत्मविश्वास एवं सकारात्मक सोच हो। उन्होनें विद्यार्थियों को भारत के संविधान के अनुसरण के लिए प्रेरित किया। 


श्री अनिल कुमार सिंह, वरिष्ठ प्रबन्धक, उत्तर प्रदेश खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड ने अपने उद्बोधन में बोर्ड द्वारा उद्यमियों को आर्थिक रूप से प्रोत्साहित करने हेतु चलाई जा रही योजना के बारे में अवगत कराया।


श्री पी0 के0 पुंडीर, उपनिदेशक, रोजगार एवं प्रशिक्षण विभाग, उत्तर प्रदेश ने विभाग द्वारा बेरोजगार अभ्यर्थियों को रोजगार से जोड़ने के लिए विभाग द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के विषय में जानकारी दी। 


श्री अभिलाष पाठक, ए0जी0एम0, आई0डी0बी0आई0 बैंक, लखनऊ ने अपने उद्बोधन में बैंकों द्वारा उद्यमियों को आर्थिक रूप से प्रोत्साहित करने हेतु चलाई जा रही योजना के बारे में अवगत कराया। इस अवसर पर डाॅ0 मानव कुमार सिंह, मो0 जुबैर खान, कोआॅडिनेटर एवं श्री अमित बाजपेई, प्रोग्राम इन्चार्ज, श्री वसी अहमद, अनुभाग अधिकारी एवं अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,