फाउंडेशन के उद्घाटन के अवसर पर हुई सांस्कृतिक प्रस्तुतियां






लखनऊ। बुजुर्गो की सेवा ईश्वर की सेवा को ध्यान में रखते हुए आशा वेलफेयर फाउंडेशन ने अपने शुभारंभ दिवस एक दिसम्बर को बुजुर्ग उत्सव के रूप में मनाया। बुजुर्ग उत्सव के अन्तर्गत सरोजिनी नगर स्थित सार्वजनिक शिक्षोनयन संस्थान द्वारा संचालित वृद्धाश्रम में छह दर्जन से अधिक बुजुर्गो को गर्म शाल बांटे गए,इसी के साथ बुजुर्गो को फल वितरण के साथ भोजन की भी व्यवस्था भी की गई। मनोरंजन को ध्यान में रखते हुए कई प्रतिभावान बच्चो बड़ो ने बुजुर्गो के समक्ष,नृत्य गायन एवं कविता पेश किया। कार्यक्रम के उपरांत सभी बुजुर्गो एवं स्टाफ को मिठाई के डब्बे वितरण किया गया। सांस्कृतिक गीत,नृत्य देख सभी बुजुर्ग खुशी से अभिभूत थे। वेलफेयर फाउंडेशन की प्रेसिडेंट सोनी वर्मा ने बताया कि आज ऑर्गनाइजेशन का शुभारंभ किया गया है और यह बुजुर्ग उत्सव आशा वेलफेयर फाउंडेशन के द्वारा प्रत्येक वर्ष अब 1 दिसम्बर को मनाया जाएगा। आशा वेलफेयर फाउंडेशन का निर्माण,निराश्रित महिलाओ को उनके पैरों पर खड़े करने,ग्रामीण क्षेत्रो में प्रत्येक विषय पर जागरूकता आदि के लिए हुआ है।

और जल्द ही कई प्रोजेक्ट शुरू होंगे।

 

 

इस मौके पर,आशा वेलफेयर फाउंडेशन से ज्योति मेहरोत्रा,दिव्या गुप्ता,रीता सिंह,अर्चना सिंह,अंजली फ़िल्म प्रोडक्शन्स की हेड एवं सोशल एक्टिविस्ट अंजली पांडेय,सोशल एक्टिविस्ट बृजेन्द्र बहादुर मौर्य ,सिटीसीएस परिवार से  मंनोज कुमार,प्रख्यात आहार एवं पोषण विशेषज्ञ डॉ अंकिता चौधरी,कॉसमॉस बिजनेस से राम चौरसिया,आश्रम प्रबंधक पारुल बाजपेई एवं संस्था प्रबंधक डॉ सुशील चन्द्र त्रिवेदी आदि सहित कई सामाजिक व्यक्ति मौजूद रहे।



 

 



 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,