शिक्षा सामग्री वितरण कर मनाई शिक्षा के सागर स्वामी ब्रह्मानंद की 125वीं जयंती

आगरा। अखिल भारतीय लोधी युवा महासभा के तत्वाधान में शिक्षा के सागर स्वामी ब्रह्मानंद की 125वीं जयंती के उपलक्ष्य में दहतोरा में विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। जहाँ ज़रूरत मंद निर्धन बच्चों को स्कूल बैग व शिक्षण सामग्री भेट की गयी।


कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अखिल भारतीय लोधी युवा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष आनंद लोधी रहे।


कार्यक्रम की शुरुआत अखिल भारतीय लोधी युवा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुख्य अतिथि आनंद लोधी ने स्वामी ब्रह्मानंद की तस्वीर पर माल्याअर्पण कर की।


बैठक की अध्यक्षता राजेंद्र राजपूत व संचालन डॉ सुनील राजपूत व रजत लोधी ने किया।


विचार गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए आनंद लोधी ने स्वामी ब्रह्मानंद के जीवन पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि स्वामी जी अंधविश्वास, अशिक्षा जैसी कुरितियों का जीवन भर विरोध करते रहे।उनका जन्म साधारण किसान परिवार में बुंदेलखंड के हमीरपुर जिले में हुआ था।24 वर्ष की अल्पआयु में परिवार का मोह त्याग कर उन्होंने सन्यास लिया।स्वतंत्रता आंदोलन में उन्होंने बढ़चढ़ कर भाग लिया। देश की आज़ादी के बाद 1966 में गो हत्या निषेद क़ानून के लिए लाखों लोगों के साथ संसद का घेराव किया, तब स्वामी जी को पकड़ कर जेल भेज दिया। तब स्वामी जी ने प्रण लिया कि अब जनता की आवाज़ संसद के अंदर उठायेंगे, ओर 1967 में हमीरपुर से सांसद चुनकर संसद पहुँच गौबध के विरोध में एक घंटे तक संसद में एतिहासिक भाषण दिया।


सम्पूर्ण उत्तर भारत में शिक्षा की अलख जागने को उन्होंने हमीरपुर में महाविधालय की स्थापना की।जो आज भी शिक्षा का प्रकाश सम्पूर्ण बुंदेलखंड में फैला रहा है।


अखिल भारतीय लोधी युवा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष आनंद लोधी ने स्वामी ब्रह्मानंद की जयंती पर बुंदेलखंड विश्वविध्यालय का नाम स्वामी ब्रह्मानंद विश्वविध्यालय करने की माँग उत्तर प्रदेश सरकार से की। इसके लिए अखिल भारतीय लोधी महासभा का प्रतिनिधि मंडल उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री व राज्यपाल को मिलकर ज्ञापन सौंपेगी।


राजेंद्र राजपूत ने कहा कि स्वामी ब्रह्मानंद ने सर्व समाज के लिए अपना सब कुछ त्याग कर जीवन पर्यांत लोगों को सामाजिक क़ुरितीयों व शिक्षा के लिए जागरूक करते रहे। एसे महान व्यक्तित्व को सरकार को सम्मान देना चाहिए। अखिल भारतीय लोधी महासभा जल्द ही स्वामी जी को भारत रत्न देने की भारत सरकार से माँग करेगी व इसके लिए चरणबद्ध रूप में आंदोलन चलाएगी।


प्रमुख रूप से डॉ सुनील राजपूत, वीरेन्द्र राजपूत, गंगा सिंह लोधी, पवन चौधरी, राजकुमार लोधी, नरेश राजपूत, राकेश लोधी, जितेंद्र राजपूत, भगवानसिंह, राधा किशन लोधी, राहुल लोधी, आकाश राजपूत, दीपक राजपूत, विष्णु, यशपाल लोधी, गौरव राजपूत, चौब सिंह राजपूत, महेश लोधी,पूरन सिंह, चंदू राजपूत, आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,