औद्योगिक नीति में 25 एकड़ की भूमि पर प्राइवेट औद्योगिक पार्क विकसित करने के लिए किया जायेगा प्राविधान-औद्योगिक विकास मंत्री

लखनऊ, 12 मई, 2020

 

उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री श्री सतीश महाना कहा कि कोराना महामारी से रिअल इस्टेट का कारोबार बहुत अधिक प्रभावित हुआ है। इसको देखते हुए रिअल स्टेट उद्यमियों के समस्याओं के त्वरित निराकरण हेतु एक समिति का गठन किया गया है। यह समिति एक सप्ताह के अंदर अपनी रिपोर्ट देगी और इसके आधार पर कार्यवाही सुनश्चित होगी। उन्होंने कहा कि छोटे शहरों में भी प्राइवेट इंडस्ट्रियल पार्क के विकास प्राथमिकता दी जा रही है। इसके लिए शीघ्र ही औद्योगिक नीति में प्राविधान भी किया जायेगा। इससे 25 एकड़ की भूमि पर प्राइवेट औद्योगिक पार्क विकसित किया जा सकेगा।

श्री महाना आज कंफेडेरशन आफ रिअल एस्टेट डेवलपर्स एसोसिएशन आफ इण्डिया  (क्रेडाई) के सदस्यों से वेबिनार के तहत चर्चा कर रहे थे। उन्होंने उद्यमियों को आवश्वत किया कि उनके द्वारा जो भी प्रस्ताव एवं सुझाव दिये गये हैं, उस पर जल्द ही निर्णय लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि रिअल स्टेट कारोबारियों से ली जाने वाली ब्याज की दर को कम करने पर विचार किया जायेगा। साथ ही प्राधिकरणों की कार्यप्रणाली को उद्यमियों के सुविधानुसार और अधिक सुगम बनाया जायेगा। इसके अतिरिक्त उद्यमियों की विद्युत बिल से संबंधित समस्याओं के निराकरण हेतु प्रदेश के उर्जा मंत्री से आग्रह किया जायेगा।

चर्चा में क्रेडाई के यूपी चैप्टर के अध्यक्ष श्री रमन दीप सिंह बरेली जनपद में बंद रबर फैक्ट्री की निष्प्रयोज्य भूमि को औद्योगिक पार्क के लिए निजी डवलपर्स को आवंटित करने का अनुरोध किया। इसके अलाव संगठन के पदाधिकारियों ने लाॅक-डाउन खत्म होने के बाद प्राधिकरण से संबंधित सभी बकाया राशि बिना किसी ब्याज के एक साल के लिए बढ़ाये जाने, सभी स्वीकृतियों का सत्यापन एक वर्ष के लिए स्थगित रखने, लीज रेंट को लीज डीड के अनुसार वसूली करने तथा लॉकडाउन अवधि के लिए विद्युत शुल्क वास्तविक खपत के अनुसार लिये जाने आदि मुद्दो पर चर्चा की और शीघ्र इसके समाधान का आग्रह किया। साथ ही प्रोजेक्ट के निर्माण की अवधि को बढ़ाये जाने की अपेक्षा भी की गई।

वेबिनार में विभागीय अधिकारियों के अलावा क्रेडाई के एनसीआर तथा पश्चिमी उत्तर प्रदेश के उद्यमियों सहित एटीएस लिमिटेड के सीएमडी श्री गीताम्बर आनन्द, अर्फोडेबल हाउसिंग कमेटी के चेयरमैन श्री मनोज गौड़ तथा सुशान्त गुप्ता ने भी हिस्सा लिया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,