बारिस से ईंट उद्योग को हुआ भारी नुकसान


मौदहा।हमीरपुर।
डेढ़ माह से कोरोना महामारी के संक्रमण से लॉक डाउन को झेल रहे लोग अब दैवीय आपदा के प्रकोप से परेसान हैं।बीती रात हमीरपुर जनपद सहित मौदहा क्षेत्र में आयी आँधी व बारिश की मार से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया। आंधी और तूफान गरीबों के आशियाने उड़ा ले गई तो वहीं बारिस से आस पास लगे दो दर्जन ईंट उद्योग व्यापारी भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है। सीजन शुरू होने से पहले ही पथी हुई कच्ची ईंटों पर बरसात ने पानी फेर दिया और तमाम ईंट पुन: गलकर मिट्टी में मिल गईं। ईंट भट्ठा व्यवसाय सीजनल होता है, इसके लिए अक्टूबर से जून तक ईंट पथाई, पकाई उसके बाद बिक्री की प्रक्रिया चलती है। बेमौसम बारिश से भट्ठा व्यवसाय को काफी नुकसान झेलना पड़ रहा है,जिससे आगे होने वाले निर्माण कार्य भी प्रभावित होंगे। इस क्षति से आहत हमीरपुर भट्ठा संघ के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने बताया की इस बिन मौसम बरसात से 40 प्रतिसत कच्ची ईंट घुल जाने से लाखों की क्षति हो गई है उन्होंने सरकार से भट्ठा टैक्स में राहत देने की मांग की है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,