घर जाना जरूरी है कोई भी मजबूरी हो








संत कबीर नगर (नवनीत मिश्र)। वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से पूरे राष्ट्र में लॉकडाउन है। तृतीय चरण के लॉक डाउन की  शुरुआत के साथ ही विभिन्न राज्यों से लोगों का भारी मात्रा में पलायन होने लगा। लोग एन केन प्रकारेण किसी भी तरह अपने घर पहुंचना चाहते हैं। इन प्रवासियो को घर भेजने के लिए भारी भरकम किराया भी इस पलायन का एक कारण है। लोग अपने जान की परवाह न करते हुए किसी भी तरहअपने घर के लिए निकल दिए हैं  जिसके कारण  रास्ते में  दुर्घटनाओं में  अन्य  कठिनाइयों का सामना भी कर रहे हैं। लॉकडाउन  के 50 दिन से ऊपर हो गए हैं, फिर भी प्रवासियो के आने का सिलसिला जारी है। 

 

      इसी क्रम में आज जिला मुख्यालय के बाईपास चौरहे पर चिलचिलती धूप में दर्जनो परिवार मासूम बच्चों के साथ आते दिखे। तो कुछ पुल के नीचे आराम करते दिखे।

 

             यहीं पर कर कुछ उत्साही युवाओं के साथ समाजसेवी नित्यानंद की अगुवाई में आने वाले प्रवासियों के जलपान की व्यवस्था किए हैं  पूछने पर नित्यानंद ने बताया कि गरीब मजदूर असहाय की सेवा करने की विरासत में मिली परंपरा को निभा रहा हूं। पिता जी पूर्व विधायक स्व० द्वारिका प्रसाद जी के दिखाए गए मार्ग पर चल रहा हूँ। जितना बन पड़ रहा है उससे सबकी सेवा कर रहा हूँ।



 

 



 



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,