मौदहा कस्बे में दिन रात फल फूल रहा है गुटखा व पान मसाला की कालाबाजारी और लिए जा रहे है विक्रय मूल्य से दोगुने दाम ••••


प्रदेश सरकार द्वारा पान मसाला पर प्रतिबन्ध हटाये हुए कई दिन बीत जाने के बाद भी मौदहा कस्बे में अभी भी पान मसाला के पैकिटो में दाम बढ़ा कर लिए जा रहे हैं विक्रय मूल्य से दोगुने दाम जबकि  पान मसाला क्षेत्र में पर्याप्त रूप से आ रहा है लेकिन स्थानीय दुकानदार प्रशासन को ठेंगा दिखाने में अभी भी बाज नहीं आ रहे हैं और आवश्यकता से अधिक कमाई करने के लालसा लिए हुए  दिनदहाड़े ग्राहकों की की जेबे काट रहे हैं और उन लोगों के इस के इस कार्य को प्रशासन खुली आंखों से देखने के बाद भी मौन है - 
        कस्बे में न तो नियमो का पालन किया जा रहा है और न और न ही ईमानदारी का....
 बताते चलें कि की जहां केसर पान मसाला का मूल्य 170 रुपये प्रति पैकेट है लेकिन वह 270 रुपए प्रति पैकेट बेचा जा रहा है और और फुटकर बिक्री में 7 रुपए का एक जो कि खुले आम खुलेआम ग्राहकों की जेब काटने से कम नहीं है जबकि एजेंसी मालिकों का कहना है कि दुकानदारों को उचित मूल्य में ही पान मसाला और गुटखा दिया जा रहा है आखिर कब तक दुकानदार लूटमार मचाते रहेंगे और प्रशासनिक अधिकारी चंद सिक्कों की खनक की वजह से यह सब खुली आंखों से देखते रहेंगे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,