अवैज्ञानिक ढंग से कान्हा पशु आश्रय स्थल का निर्माण करने पर डीएम ने जेई का स्पष्टीकरण प्राप्त कर कार्रवाई के दिए निर्देश

कान्हा पशु आश्रय स्थल निर्माण से संबंधित सभी प्रकार के भुगतान पर जिलाधिकारी ने लगाया प्रतिबंध



हमीरपुर 19 जून 2020 आज जिलाधिकारी डॉ ज्ञानेश्वर त्रिपाठी ने नगर पंचायत सुमेरपुर द्वारा  01.54 करोड़ की लागत से निर्मित किये जा रहे कान्हा पशु आश्रय स्थल सुमेरपुर का निरीक्षण किया। मौके पर कान्हा पशु आश्रय स्थल की डिजाइन में कमियां होने, सही तकनीक से पशुओं के मल मूत्र निकासी की कोई व्यवस्था ना पाए जाने तथा  अवैज्ञानिक ढंग से निर्माण करने पर जिलाधिकारी ने जेई का स्पष्टीकरण प्राप्त कर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। जिलाधिकारी ने कान्हा पशु आश्रय स्थल निर्माण से संबंधित सभी प्रकार के भुगतान पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है। जिलाधिकारी ने टेक्निकल टीम गठित कर इसकी जांच के निर्देश भी दिए हैं । ज्ञात हो कि पशु आश्रय स्थल में पशुओं के चरही का अवैज्ञानिक ढंग से निर्माण करने तथा पशुओं के मल-मूत्र निकासी हेतु स्लोप आदि का निर्माण न करने पर जिलाधिकारी ने यह कार्रवाई की है। उन्होंने कहा कि कुरारा  व गोहांड के कान्हा पशु आश्रय स्थल की डिजाइन मंगा कर इसको मैच कराया जाए। उन्होंने कहा कि कान्हा पशु आश्रय स्थल के अंदर तालाब खुदवाया जाय, तालाब खुदवा कर उसके किनारे किनारे वृक्षारोपण कराने के लिए सभी तैयारियां पूर्ण कर ली जाएं। पशु आश्रय स्थल में चारागाह विकसित किया जाए। जिलाधिकारी ने कहा कि भूसा क्रय टेंडर के माध्यम से ही किया जाय। काफी अधिक समय व्यतीत हो जाने के बाद भी कान्हा पशु आश्रय स्थल के निर्माण का कार्य अधूरा पाए जाने पर जिलाधिकारी ने कड़ी आपत्ति/नाराजगी जाहिर की है। पशु आश्रय स्थल में अभी तक सोलर प्लांट/बायोगैस आदि का कार्य कंप्लीट की ना पाए जाने पर भी नाराजगी जाहिर की।
    इस मौके पर जिलाधिकारी में वर्मी कंपोस्ट के गड्ढे आदि का भी मुआयना तथा भूसा की उपलब्धता की भी व्यवस्था देखी तथा जरूरी दिशा निर्देश दिए ।
  इस दौरान अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत सुमेरपुर तथा अन्य संबंधित मौजूद रहे।



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,