नरपतनगर-दूंदावाला नगर पंचायत में प्रशासक और ईओ नियुक्त

स्वार नरपतनगर-दूंदावाला नगर पंचायत के लिए एसडीएम आरके गुप्ता को प्रशासक और केमरी के अधिशासी अधिकारी कार्यवाहक अधिशासी अधिकारी बनाया गया है। प्रशासक नरपतनगर-दूंदावाला पहुंच कर अस्थाई कार्यालय के लिए जलकल परिसर को चिन्हित किया है। कई दशक से नरपतनगर और दूंदावाला ग्राम पंचायतों मिलाकर नगर पंचायत गठित करने की मांग की जा रही थीपिछली समाजवादी सरकार में नगर विकास मंत्री मोहम्मद आजम खां ने नगर पंचायत गठन को औपचारिकताएं पूरी कराई थीं। भाजपा सरकार आते कुछ कानूनी रुकावटें आईं जिन्हें दूर करने के बाद अंततः नगर पंचायत का गठन कर दिया गयाएसडीएम आरके गुप्ता को नगर पंचायत का प्रशासक भी नियुक्त कर दिया गया। इनके अलावा केमरी के ईओ को नरपतनगर- दूंदावाला नगर पंचायत का कार्यकारी ईओ बनाया गया है। प्रशासक ने नरपतनगर पहुंच कर अस्थाई कार्यालय के लिए जल-कल परिसर में बने भवनों को देखा। यहां प्रशासनिक कार्यालय बनेगा। नगर पंचायत के लिए अधिकारियों की नियुक्ति होने के बाद यहां के लोगों में खुशी का माहौल है। अब यहां अध्यक्ष एवं सदस्यों के चुनाव की चर्चा भी जोर पकड़ने लगेगी। समाजवादी सरकार में जिले की नरपतनगरदूंदावाला, दढ़ियाल और सैफनी ग्राम पंचायतों का अस्तित्व खत्म कर नगर पंचायतें गठित करने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया था। इन ग्राम पंचायतों के बाशिंदे कई वर्षों से नगर पंचायत बनाए जाने की मांग कर रहे थे। शासन स्तर से तमाम औपचारिकताएं पूरी करने के बाद प्रदेश की कई ग्राम पंचायतों के साथ ही नरपतनगरदूंदावावा को भी नगर पंचायत घोषित कर दिया गया। आज यहां के बाशिंदों के लिए वास्तविक खुशी का दिन रहा जब शासन ने एसडीएम स्वार आरके गुप्ता को नगर पंचायत का प्रशासक नियुक्त किया। वह नरपतनगर-दूंदावाला पहुंचे और उन्होंने ईदगाह के सामने स्थित जल-कल परिसर का अवलोकन कर नगर पंचायत का अस्थाई कार्यालय चिन्हित किया। उधर, शासन ने यहां ईओ की भी नियुक्ति करदी है। बताते हैं कि केमरी नगर पंचायत के ईओ देवेश कुमार यादव को कार्यवाहक ईओ बनाया गया है। इस अब यहां वार्ड परिसीमन कार्य शुरु हो सकेगा जिसकी स्थानीय निकाय निर्वाचन कार्यालय से घोषणा बाद में की जाएगी। इस बीच यहां अब नगर पंचायत अध्यक्ष और सदस्यों के चुनाव को लेकर नेताओं ने नए सिरे से सियासी समीकरण बनाना शुरु करना होंगे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,