प्रदेश के समस्त जिला चिकित्सालयों में 02 स्लाॅट की ट्रूनेट मशीन तथा 25 मेडिकल कालेजों में 04 स्लाॅट की ट्रूनेट मशीने स्थापित

कल प्रदेश में 01 दिन में अब तक का सर्वाधिक 16,546 टेस्ट किये गये

चिकित्सा एंव स्वास्थ्य विभाग तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग में निरन्तर अनुश्रवण करते हुए वर्तमान में प्रदेश में 23 राजकीय प्रयोगशालाएं एवं 11 निजी क्षेत्रों में टेस्टिग का कार्य प्रारम्भ

08 नये स्थानों पर बड़ी टेस्टिंग लैब स्थापित की जा रही है

देश में पूल टेस्टिंग प्रारम्भ करने वाला प्रदेश पहला राज्य है प्रदेश में पूल टेस्टिंग का कार्य निरन्तर जारी कोरोना से घबराने की नहीं बल्कि सावधान रहने की आवश्यकता

अनलाॅक के दौरान सभी गतिविधियों में अनुशासन का पालन अत्यन्त महत्वपूर्ण सघन एवं नियमित पेट्रोलिंग के माध्यम से यह सुनिश्चित किया जाए कि कहीं भी भीड़ एकत्र न होने पाए

किसी भी दुकान पर दुकानदार द्वारा बिना मास्क पहनने वाले ग्राहकों को कोई सेवा न दी जाये

सभी कार्यालयों में वरिष्ठ अधिकारी यह सुनिश्चित करे कि कार्यालय में सभी कर्मचारी मास्क अनिवार्य रूप से पहने तथा सोशल डिस्टेसिंग का अवश्य पालन करे

मास्क नहीं पहनने, दोपहिया वाहनों पर 02 से ज्यादा लोगों के बैठने एवं वाहनों में सोशल डिस्टेसिंग का पालन न किये जाने पर आवश्यक रूप से कार्यवाही की जाये

कन्टेनमेंट जोन में पूरी सख्ती बरतते हुए यह भी अनिवार्य रूप से सुनिश्चित किया जाए कि कन्टेनमेंट जोन में लोगों को आवश्यक सामग्री की उपलब्धता में कोई असुविधा न हो

पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से जनता को जागरूक करने के कार्य को जारी रखते हुए इस कार्य में पी0आर0वी0 112 तथा प्रशासनिक मजिस्ट्रेटों के वाहनों का भी उपयोग किया जाए

कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार की सटीक जानकारी के लिए रैंडम टेस्टिंग पर बल

सभी जनपदों के कोविड एवं नाॅन कोविड अस्पतालों
की व्यवस्थाओं की सीधी जानकारी प्राप्त करने के लिए शासन स्तर पर विशेष सचिव स्तर का एक अधिकारी नामित किया जाए

जनपद स्तर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा इन अस्पतालों का निरीक्षण करते हुए व्यवस्थाओं का प्रभावी अनुश्रवण किया जाए

जिलाधिकारियों को ओल्ड एज होम, बाल गृह तथा महिला संरक्षण गृह में निवासित लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कराने के निर्देश

ग्रामीण और शहरी इलाकों में 70 हजार निगरानी समितियों द्वारा सर्विलांस का कार्य

चिकित्सालयों में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना के निर्देश, इसके माध्यम से कोविड-19 से बचाव तथा इसके उपचार सम्बन्धी जानकारी प्रदान की जाए

20 जून, 2020 से प्रारम्भ हो रहे खाद्यान्न वितरण अभियान के आगामी चरण की सभी व्यवस्थाएं समय से पूरी कर ली जाए

मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी अपने जनपद केगौ-आश्रय स्थलों का नियमित निरीक्षण करें

मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी अपने जनपद के गौ-आश्रय स्थलों में चारा आदि के प्रबन्ध तथा गौ-वंश के स्वास्थ्य परीक्षण की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित कराएं

धारा 188 के तहत 68,127 एफआईआर दर्ज

प्रदेश मंे अब तक सर्वाधिक कार्यवाही करते हुए लखनऊ में 12498, कानपुर में 12345 व वाराणसी में 11844 अभियोग पंजीकृत किये गये- अवनीश कुमार अवस्थी


प्रदेश में कोरोना के 5,659 मामले एक्टिव

अब तक 9638 मरीज पूरी तरह से उपचारित

18 जनपदों में 04-04 ऐसे गांव जहां 100 से अधिक कामगार एवं श्रमिक आये हैं का चुनते हुए कुल 72 गांवों में 1686 लोगों के सैम्पल की रैण्डम चेकिंग की गयी हैं जिनमें से कोई भी पाॅजिटिव नहीं पाया गया

रैण्डम चेकिंग के तहत नारी निकेतन, बाल गृह, ओल्ड ऐज होम्स में रह रहे लोगों, ज्यादा आवागमन करने वाले लोगों एवं अरबन स्लम्स तथा हास्पिटल में फ्रन्ट लाईन्स वर्कस की रेण्डम चेकिंग की जा रही है

रेण्डम चेकिंग के अन्तर्गत ऐसे लोगों के सैम्पल का चुनाव किया जाता हैजिनका लोगों से ज्यादा इन्टरेकशन होता है

राजकीय बाल गृह, कानपुर एवं राजकीय ओल्ड ऐज होम,कानपुर में कुल 32 केस पाजिटिव मिले है

अगले चरण मंे ड्राइवर्स, वेन्डर्स, फल-सब्जी विक्रता तथा दवाई विक्रेताओं आदि की रेण्डम चेकिंग की जायेगी-अमित मोहन प्रसाद



लखनऊ: 18 जून, 2020
उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना श्री अवनीश कुमार अवस्थी ने आज यहां लोकभवन में प्रेस प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज टीम-11 की बैठक में माह जून, 2020 के अन्त तक कोविड अस्पतालों में बेड की संख्या को बढ़ाकर डेढ़ लाख किए जाने के निर्देश दिए हैं। श्री अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में वर्तमान में 1,01,236 बेड मौजूद है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में एल-1 के 403, एल-2 के 75 व एल-3 के 25 सेन्टर बनाये गये है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि 20 जून, 2020 तक टेस्टिंग क्षमता को बढ़ाकर 20 हजार टेस्ट प्रतिदिन किए जाने के लिए प्रभावी प्रयास किए जाएं तथा माह के अन्त तक 25,000 टेस्ट प्रतिदिन किये जाने के निर्देश दिये है। उन्होंने बताया कि कल प्रदेश में 01 दिन में अब तक का सर्वाधिक 16,546 टेस्ट किया गया। वर्तमान में प्रदेश कोविड-19 की टेस्टिंग में देश में पांचवे स्थान पर है। उन्होंने बताया कि टेस्टिंग क्षमता को बढ़ाते हुए प्रदेश को पहले स्थान लाये जाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि मार्च, 2020 में केजीएमयू में एक मात्र टेस्टिंग लैब में एक दिन में केवल 60 टेस्ट किये जा रहे थे। उन्होंने बताया कि माननीय मुख्यमंत्री जी के निर्देशन में चिकित्सा एंव स्वास्थ्य विभाग तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग में निरन्तर अनुश्रवण करते हुए वर्तमान में प्रदेश में 23 राजकीय प्रयोगशालाएं एवं 11 निजी क्षेत्रों में टेस्टिग का कार्य प्रारम्भ किया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के समस्त जिला चिकित्सालयों में 02 स्लाॅट की ट्रूनेट मशीन तथा 25 मेडिकल कालेजों में 04 स्लाॅट की ट्रूनेट मशीने स्थापित की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि देश में पूल टेस्टिंग प्रारम्भ करने वाला प्रदेश पहला राज्य है। प्रदेश में पूल टेस्टिंग का कार्य निरन्तर जारी है। उन्होंने बताया कि 08 नये स्थानों पर बड़ी टेस्टिंग लैब स्थापित की जा रही है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने टेस्टिंग कार्य और रिपोर्ट फीडिंग के कार्य में और श्रीघता लाये जाने के निर्देश दिये है। उन्होंने बताया कि बी0आर0डी0 मेडिकल कालेज, गोरखपुर में एल0 एण्ड टी0 द्वारा एडवान्स प्रयोगशाला स्थापित की जा रही है।
श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि कोरोना से घबराने की नहीं बल्कि सावधान रहने की आवश्यकता है। इसलिए अनलाॅक के दौरान सभी गतिविधियों में अनुशासन का पालन अत्यन्त महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा है कि यह सुनिश्चित किया जाए कि बिना मास्क कोई बाहर न निकले। सोशल डिस्टेंसिंग को प्रत्येक दशा में लागू किया जाए। सघन एवं नियमित पेट्रोलिंग के माध्यम से यह सुनिश्चित किया जाए कि कहीं भी भीड़ एकत्र न होने पाए। श्री अवस्थी ने कहा कि किसी भी दुकान पर दुकानदार द्वारा बिना मास्क पहनने वाले ग्राहकों को कोई भी सेवा न दी जाये। सभी कार्यालयों में वरिष्ठ अधिकारी यह सुनिश्चित करे कि कार्यालय में सभी कर्मचारी मास्क अनिवार्य रूप से पहने तथा सोशल डिस्टेसिंग का अवश्य पालन करे। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि कन्टेनमेंट जोन में पूरी सख्ती बरती जाए, किन्तु यह भी अनिवार्य रूप से सुनिश्चित किया जाए कि कन्टेनमेंट जोन में लोगों को आवश्यक सामग्री की उपलब्धता में कोई असुविधा न हो। पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से जनता को जागरूक करने के कार्य को जारी रखने के निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि इस कार्य में पी0आर0वी0 112 तथा प्रशासनिक मजिस्ट्रेटों के वाहनों का भी उपयोग किया जाए। साथ ही, प्रमुख स्थलों तथा चैराहों आदि पर भी पब्लिक एड्रेस सिस्टम का उपयोग कर जागरूकता सृजित की जाए।
श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि सभी जनपदों के कोविड एवं नाॅन कोविड अस्पतालों की व्यवस्थाओं की सीधी जानकारी प्राप्त करने के लिए शासन स्तर पर विशेष सचिव स्तर का एक अधिकारी नामित किया जाए। इसके अलावा, जनपद स्तर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा इन अस्पतालों का निरीक्षण करते हुए व्यवस्थाओं का प्रभावी अनुश्रवण किया जाए। उन्होंने चिकित्सालयों में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना के निर्देश देते हुए कहा है कि इसके माध्यम से कोविड-19 से बचाव तथा इसके उपचार सम्बन्धी जानकारी प्रदान की जाए। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने जिलाधिकारियों को ओल्ड एज होम, बाल गृह तथा महिला संरक्षण गृह में सामूहिक रूप से निवासित लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कराने के निर्देश देते  हुए कहा कि स्वास्थ्य परीक्षण के द्वारा चिन्हित किया जाए कि कोई व्यक्ति कोरोना से संक्रमित तो नहीं है। उन्होंने कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार की सटीक जानकारी के लिए रैंडम टेस्टिंग पर बल दिया।
श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि प्रदेश में कम्युनिटी सर्विलांस व्यवस्था सुचारु रूप से कार्य कर रही है। ग्रामीण और शहरी इलाकों में 70 हजार निगरानी समितियों द्वारा सर्विलांस का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने निगरानी समितियों के सदस्यों से संवाद कायम रखते हुए फीडबैक प्राप्त करने तथा उन्हें और सुदृढ़ करनेे के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि 20 जून, 2020 से प्रारम्भ हो रहे खाद्यान्न वितरण अभियान के आगामी चरण की सभी व्यवस्थाएं समय से पूरी कर ली जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि खाद्यान्न वितरण में घटतौली या अन्य कोई भी अनियमितता न होने पाए। उन्होंने सभी जरूरतमंदों को खाद्यान्न उपलब्ध कराने के निर्देश दिए है। मुख्यमंत्री जी ने समस्त मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारियों को अपने-अपने जनपद के गौ-आश्रय स्थलों का नियमित निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि यह अधिकारीगण गौ-आश्रय स्थलों में चारा आदि के प्रबन्ध तथा गौ-वंश के स्वास्थ्य परीक्षण की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित कराएं। उन्होंने कहा कि इसमें अनियमितता पाये जाने पर सम्बन्धित मुख्य पशु चिकित्साधिकारी के विरूद्ध कार्यवाही होगी।
श्री अवस्थी ने बताया कि गृह विभाग की धारा 188 के तहत 68,127 एफआईआर दर्ज करते हुये 1,83,226 लोगों को नामजद किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जहां भी लोग मास्क नहीं पहन रहे, वाहनों पर निर्धारित मानक से ज्यादा लोगों के बैठने एवं वाहनों में सोशल डिस्टेसिंग का पालन न किये जाने पर आवश्यक रूप से कार्यवाही की जाये। उन्होंने बताया कि प्रदेश मंे अब तक सर्वाधिक कार्यवाही करने वाले तीन जोन जिनमें लखनऊ में 12498, कानपुर में 12345 व वाराणसी में 11844 अभियोग पंजीकृत किये गये है। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए वाॅलेन्टियर्स के रूप में कार्य करने के इच्छुक एन0सी0सी0, एन0एस0एस0, एन0जी0ओ0, फोरम, रिटायर्ड कर्मचारी, छात्र एवं शिक्षक आदि सभी लोग संबधित जनपद के जिलाधिकारी के माध्यम से अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते है। वाॅलेन्टियर्स के रूप में कार्य करने के इच्छुक लोग चिकित्सा विभाग की वेबसाइट पर आवेदन कर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते है। उन्हांेने बताया कि प्रदेश में मोबाइल एम्बुलेंस-170, 108 आकस्मिक सेवा एम्बुलेंस-2200, 102 आकस्मिक सेवा एम्बुलेंस-2270 जबकि एन0एल0एस0 की 250 एम्बुलेंस कार्य कर रही है।  
प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में टेस्टिंग का कार्य तेजी से किया जा रहा है। कल अब तक कि एक दिन में सर्वाधिक 16,546 सैम्पल की जांच की गयी। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक 5,15,280 सैम्पल का टेस्ट किया जा चुका है। प्रदेश के 74 जनपदों में 5,659 कोरोना के मामले एक्टिव हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 9,638 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं।
श्री प्रसाद ने बताया कि रैण्डम चेकिंग का कार्य निरन्तर किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि 18 जनपदों में 04-04 ऐसे गांव जहां 100 से अधिक कामगार एवं श्रमिक आये हैं को चुनते हुए कुल 72 गांवों में 1686 लोगों के सैम्पल की रैण्डम चेकिंग की गयी हैं जिनमें से कोई भी पाॅजिटिव नहीं पाया गया है। रैण्डम चेकिंग के तहत नारी निकेतन, बाल गृह, ओल्ड ऐज होम्स में रह रहे लोगों की जांच की जा रही है। उन्होंने बताय कि राजकीय बाल गृह, कानपुर एवं राजकीय ओल्ड ऐज होम, कानपुर में कुल 32 केस पाजिटिव मिले है। उन्होंने बताया कि ज्यादा आवागमन करने वाले लोगों एवं अरबन स्लम्स तथा हास्पिटल में फ्रन्ट लाईन्स वर्कस की रेण्डम चेकिंग की जा रही है। रेण्डम चेकिंग के अन्तर्गत ऐसे लोगों का चुनाव किया जाता है जिनका लोगों से ज्यादा इन्टरैक्शन होता है। उन्होंने बताया कि अगले चरण मंे ड्राइवर्स, वेन्डर्स, फल-सब्जी विक्रता, सेल्समैन, डिलीवरी मैन तथा दवाई विक्रेताओं आदि की रेण्डम चेकिंग की जायेगी। रेण्डम चेकिंग का उद्देश्य एक ओर जहां लोगों में जागरूकता फैलाना है वही दूसरी ओर कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए कन्टेनमेंट की कार्यवाही भी की जा सकेगी।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,