प्रधानमंत्री जी ने प्रदेश के 06 जनपदों के लाभार्थियों से वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया संवाद-अवनीश कुमार अवस्थी

प्रदेश में कोरोना के 6,730 मामले एक्टिव-अमित मोहन प्रसाद



लखनऊ: 26 जून, 2020

 

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना श्री अवनीश कुमार अवस्थी ने आज यहां लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा आज आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया। जिसमें माननीय प्रधानमंत्री जी ने जनपद सिद्धार्थ नगर के कुर्बान अली, गोण्डा के विनीता पाल, बहराइच के शम्भु कुमार, गोरखपुर के नागेन्द्र सिंह, संत कबीर नगर के राम चन्द्र एवं अमरेन्द्र कुमार, जालौन के नितीन कुमार से वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद किया। माननीय प्रधानमंत्री जी का यह कार्यक्रम सफल रहा। माननीय मुख्यमंत्री जी ने माननीय प्रधानमंत्री जी के प्रति आभार व्यक्त किया। श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि कोविड-19 से बचाव के सम्बन्ध में जागरूकता सृजित करने तथा संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए लगातार प्रयास किया जाना आवश्यक है। इसके दृष्टिगत उन्होंने सभी सरकारी, निजी चिकित्सालयों तथा कार्यालयों में कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना कराए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने निर्देश दिए हैं कि कोविड एवं नाॅन कोविड चिकित्सालयों के कार्यों की निरन्तर माॅनिटरिंग की जाए। इन अस्पतालों से लगातार संवाद बनाकर चिकित्सा व्यवस्था को सुदृढ़ रखा जाए।

श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि रैपिड एन्टीजेन टेस्टिंग को बढ़ाने की आवश्यकता है। इस विधि को अपनाकर कम समय में सैम्पल के जांच परिणाम प्राप्त किए जा सकते हैं। उन्होंने टेस्टिंग क्षमता में वृद्धि के लिए लगातार प्रयास किए जाने के निर्देश भी दिए है। मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि मेडिकल इंफेक्शन को रोकने के लिए चिकित्साकर्मियों को सभी सावधानियों की जानकारी उपलब्ध कराई जाए। इसके लिए डाॅक्टरों तथा अन्य चिकित्साकर्मियों की ट्रेनिंग का कार्य लगातार संचालित किया जाए। मेडिकल टीम को संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए पी0पी0ई0 किट, एन-95 मास्क, ग्लव्स एवं सेनिटाइजर आदि की सुचारु व्यवस्था बनाए रखी जाए। पुलिस तथा पी0ए0सी0 के कार्मिकों को संक्रमण से बचाने के लिए सभी सावधानियां बरती जाए। कोविड-19 के संक्रमण को नियंत्रित करने में बेहतर सर्विलांस की उपयोगिता का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि शहरी और ग्रामीण इलाकों में निगरानी समितियों को सक्रिय रखा जाए। स्क्रीनिंग टीम के माध्यम से मेडिकल स्क्रीनिंग का कार्य प्रभावी ढंग से संचालित किया जाए। इसके लिए टीम को इंफ्रारेड थर्मामीटर तथा पल्स आॅक्सीमीटर उपलब्ध कराए जाएं।

श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिए हैं कि पुलिस द्वारा पेट्रोलिंग का कार्य निरन्तर किया जाए। बाजारों, चैराहों आदि में नियमित तौर पर फुट पेट्रोलिंग करते हुए सुनिश्चित किया जाए कि कहीं भी भीड़ एकत्र न हो। सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह पालन कराया जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि लोग मास्क का अवश्य उपयोग करें। उन्होंने वृद्धाश्रम, महिला संरक्षण गृह तथा बालगृह में रैण्डम चेकिंग कराते हुए संक्रमण को नियंत्रित करने के निर्देश भी दिए हैं। मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि आकाशीय बिजली की आपदा से सुरक्षित रखने के उपायों का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। इस सम्बन्ध में बरती जाने वाली सावधानियों की जानकारी लोगों को पूर्व में बताई जाए। उन्होंने कहा है कि इन प्रयासों से दैवीय आपदा से होने वाली जनहानि को रोका जा सकेगा। उन्होंने गौवंश के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दिए जाने के निर्देश भी दिए हैं। उन्होंने गौवंश हेतु पर्याप्त मात्रा में चारा-भूसा तथा दवाईयों आदि की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। 

श्री अवस्थी ने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा अब तक कुल 11,036 गाड़ियों में पब्लिक एड्रेस सिस्टम लगाया गया है, जिससे लोगों को कोरोना के बचाव के उपायों की जानकारी दी जा रही है। इसके अतिरिक्त 2,378 स्थानों पर भी स्थायी लाउड स्पीकर लगाकर लोगों को कोरोना से सम्बंधित उपायों की जानकारी दी जा रही है। उन्होंने बताया कि माननीय उच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार जेल से कैदी को पैरोल पर छोड़ने का निर्णय लिया गया है। 25 जून को कुल 17,963 कैदी छोड़े गये हैं। उन्होंने बताया कि जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के निर्देश पर 26 जून तक 695 बाल कैदी पैरोल पर छोड़े गये। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक 53 अस्थायी कारागार बनाई गई है जिसमें से 3380 भारतीय तथा 63 विदेशी कैदी हैं। उन्होंने बताया कि कल प्रदेश में 6080 रोडवेज की बसें संचालित की गयी जिनमें से 7,01,226 लोगों ने यात्रा की। उन्होंने बताया कि लाॅक डाउन के बाद अनलाॅक में पहली बार सबसे ज्यादा लोगों ने यात्रा की। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 2744 हाॅट स्पाॅट के 820 थानान्तर्गत 8,41,774 मकानों के 53,07,232 लोगों को चिन्हित किया गया है।

श्री अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में अब तक 1658 श्रमिक स्पेशल ट्रेन के माध्यम से 22,37,254 लोगों को प्रदेश में लाकर उनके घरों तक पहुंचाया गया है। उन्होंने बताया कि अन्य राज्यों के ईंट भट्ठा श्रमिक जो प्रदेश में कार्य कर रहे थे उनको उनके राज्य में भेजे जाने की व्यवस्था प्रदेश सरकार द्वारा की गयी है। प्रदेश सरकार द्वारा अब तक अन्य राज्यों के ईंट भट्टा श्रमिकों को 82 ट्रेन के माध्यम से 1,42,767 ईंट भट्टा श्रमिकों को सकुशल, सुरक्षित रूप से ससम्मान उनके घर भेजा जा चुका है। इनमें 19 ट्रेनों के माध्यम से 33,990 श्रमिकों को छत्तीसगढ़, 55 ट्रेनों के माध्यम से 94,473 श्रमिकों को बिहार, 05 ट्रेनों के माध्यम से 8,751 श्रमिकों को उड़ीसा व 03 ट्रेन के माध्यम से 5,553 श्रमिकों को झारखण्ड राज्य में भेजा जा चुका है।

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में टेस्टिंग का कार्य तेजी से किया जा रहा है। कल एक दिन में 19,387 सैम्पल की जांच की गयी। उन्होंने बताया कि अब तक कुल 6,42,833 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 75 जनपदों में 6,730 कोरोना के मामले एक्टिव हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 13,583 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि पूल टेस्ट के अन्तर्गत कुल 1960 पूल की जांच की गयी, जिसमें 1778 पूल 5-5 सैम्पल के तथा 182 पूल 10-10 सैम्पल की जांच की गयी। 

श्री प्रसाद ने बताया कि आशा वर्कर्स द्वारा अब तक 18,69,542 लाख कामगारों/श्रमिकों से उनके घर पर जाकर सम्पर्क किया गया। जिसमें से 1645 लोगों में कोरोना जैसे लक्षण मिले। इन लोगों के सैम्पल लेकर उनकी जांच की जा रही है, जिसमंे से 1229 लोगों की रिपोर्ट आ गयी हैं। इनमे 225 लोग कोरोना संक्रमित पाये गये है। उन्होंने बताया कि ग्राम एवं मोहल्ला निगरानी समितियों के द्वारा निगरानी का कार्य सक्रियता से किया जा रहा है। अब तक 1,45,501 लाख सर्विलांस टीम द्वारा 1,06,83,096 घरों के 5,45,46,924 लोगों का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि आरोग्य सेतु ऐप से अलर्ट जनरेट आने पर कन्ट्रोल रूम द्वारा निरन्तर फोन किया जा रहा है। अलर्ट जनरेट होने पर अब तक 93,394 लोगों को कन्ट्रोल रूम द्वारा फोन कर जानकारी प्राप्त की गयी

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,