सहारा में कोई छंटनी नहीं बल्कि 4,10,682 कार्यकर्ताओं को पदोन्नति दी गयी

लखनऊः, 15 जून, 2020: इस वक्त व्यवसाय के हर क्षेत्र के छोटे-बड़े व्यावसायिक प्रतिष्ठानों से बड़ी संख्या में कर्मचारियों की छंटनी की खबरें लगातार आ रही हैं। इस स्थिति के चलते वेतनभोगी कर्मचारियों में भय व्याप्त है कि पता नहीं कब किसकी नौकरी चली जाये और कब किसका परिवार रोजी-रोटी के लिए मोहताज हो जाये।
सहारा इंडिया परिवार की आर्थिक गतिविधियां भी लाॅकडाउन के चलते प्रभावित हुई हैं और सहारा इंडिया परिवार भी एक असामान्य स्थिति का सामना कर रहा है। सहारा इंडिया परिवार विश्व का वह विशाल परिवार है जिसके विभिन्न उद्यमों से आज 14 लाख कार्यकर्ता जुड़े हुए हैं और सुरक्षित तरीके से अपनी आजीविका अर्जित कर रहे हैं। सहारा इंडिया परिवार अपने कार्यकर्ताओं को हमेशा अपने परिवार का सदस्य मानता रहा है और अपने कार्यकर्ताओं के हितों को सर्वोपरि रखता रहा है। तमाम कठिनाइयों के बावजूद सहारा इंडिया परिवार ने यह निर्णय लिया है कि उसके किसी भी उद्यम से किसी भी कार्यकर्ता की कोरोना महामारी की वजह से छंटनी नहीं की जाएगी। सभी कार्यकर्तागण पूरी सुरक्षा के साथ यथावत कार्य करते रहेंगे।
उत्पादकता के आधार पर, सहारा इण्डिया परिवार के द्वारा जहाँ फील्ड से जुड़े 4,05,874 कार्यकर्ताओं को एक कैडर की पदोन्नति दी गयी है। साथ ही गत 10 जून को कार्यालय में कार्यरत 4,808 कार्यकर्ताओं को पदोन्नति देकर उनको वेतन वृद्धि कर लाभांन्वित किया गया हैै। 
सहारा इंडिया परिवार का मानना है कि कोरोना (कोविड-19) वैश्विक माहमारी के कठिन दौर में पूरा देश स्वास्थ्यगत एवं आर्थिक परेशानी झेल रहा है, ऐसी परिस्थिति में हमारा अनुरोध सहित कहना है कि छोटे-बड़े सभी व्यावसायिक प्रतिष्ठानों का यह मानवीय दायित्व बनता है कि वे अपनी संस्था के अंतर्गत कार्य करने वाले हर कर्मचारी की आजीविका को प्राथमिकता पर रखें। निःसंन्देह यह कठिन समय सभी के लिए कष्टकारी है फिर भी बतौर मुखिया/अभिभावक हम सभी की यह जिम्मेदारी बनती है कि वह अपने कर्मचारियों के परिवारों को संकट में न पड़ने दें। यह हम सभी व्यावसायिक प्रतिष्ठानों का मनुष्य, समाज और राष्ट्र के हित में इस समय एक बड़ा योगदान होगा। वो प्रवासी जो हाल ही में कोरोना (कोविड-19) के कारण घर वापस चले गए हैं, सहारा उनमें से लोगों को भर्ती करने की योजना भी बना रहा है। इन प्रवासियों को उनकी योग्यता के आधार पर, स्थानीय स्तर पर समूह की विभिन्न व्यावसायिक गतिविधियों में नियुक्त किया जाएगा।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,