सीएचसी-पीएचसी को भी ओपीडी सेवा शुरू करने की हरी झंडी

17 जून 2020
 अब सीएचसी-पीएचसी को भी ओपीडी सेवा शुरू करने की हरी झंडी 


ग्रामीण क्षेत्रों के मरीजों को मिलेगी राहत 


कोविड-19 की गाइडलाइन के मुताबिक होगा इलाज 


सीएमओ ने चिकित्सा अधीक्षकों दिए निर्देश 
शहरी स्वास्थ्य सेवाओं के साथ अब ग्रामीण स्वास्थ्य सेवाओं को भी चुस्त-दुरुस्त बनाया जाएगा। जिला चिकित्सालयों में कुछ सेवा चालू होने के बाद अब सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों सहित शहरी क्षेत्र में ओपीडी शुरू की जा रही है। मुख्य चिकित्साधिकारी डा. जी के निगम ने इसके लिए सभी चिकित्साधीक्षकों व चिकित्सा प्रभारियों को पत्र भेजकर कोविड-19 की गाइड लाइन के मुताबिक तत्काल सेवा शुरू करने के निर्देश दिए हैं। 
कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए एहतियातन सरकारी अस्पतालों में ओपीडी सेवा को बंद कर दिया गया था। इसी बीच लॉकडाउन के चौथे चरण के बाद सरकार के निर्देश पर जिला चिकित्सालयों में कुछ सेवायेँ चालू कर दी गई थी। लेकिन अब जिले की सभी सीएचसी, पीएचसी व शहरी क्षेत्र में ओपीडी सेवाएं शुरू हो रही हैं। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ॰ एन के जैन ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण के मद्देनजर पूरी सतर्कता के साथ ओपीडी में मरीज देखे जाएंगे। अस्पताल में शारीरिक दूरी के पालन की तरफ विशेष रूप से ध्यान दिया जाएगा। शारीरिक दूरी का पालन करते हुए मरीजों को चिकित्सक कक्ष में भेजने की व्यवस्था की जा रही है। इसके अलावा मरीजों के मोबाइल पर आरोग्य सेतु एप डाउनलोड कराने को भी कहा गया है। जनपद में 8 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व 36 नवीन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र 13 नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र संचालित हैं।
स्वास्थ्य केंद्रों में बरती जाएंगी सावधानियां 
स्वास्थ्य केंद्र पर आने वाले व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की जाएगी। एक रोगी के साथ एक ही तीमारदार को प्रवेश मिलेगा। मास्क लगाना अनिवार्य रहेगा। जुकाम, सर्दी, बुखार या सांस लेने में तकलीफ वाले रोगियों की जांच व उपचार के लिए अलग  कक्ष की व्यवस्था रहेगी। गैर संचारी रोग जैसे शुगर, उच्च रक्तचाप वाले रोगियों को कम से कम एक महीने की दवा दी जाएगी, ताकि ऐसे रोगी बार-बार स्वास्थ्य केंद्र न आएं। ओपीडी कक्ष में हाथ धोने की व्यवस्था रहेगी। डाक्टर व स्वास्थ्य कर्मी मास्क, ग्लब्स का उपयोग करेंगे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,