उच्च शिक्षा में नियुक्तियों की जांच होगी-मोनिका एस गर्ग

 


लखनऊ, बेसिक शिक्षा तथा माध्यमिक शिक्षा में फर्जी बाडे के तहत नौकरी कर रहे शिक्षकों की जानकारी मिलने के बाद यूपी के सभी राज्य विवि, संबद्ध राजकीय कॉलेजों व एडेड कॉलेजों में शिक्षकों की नियुक्ति जांच होगी। उनके मूल दस्तावेज से लेकर नियुक्ति से जुड़े सभी पहलू जांचे जाएंगे, जिससे नियुक्तियों में हए फर्जीवाड़े उजागर हो सकें। सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद उच्च शिक्षा विभाग ने डीएम को इसके लिए कमिटी बनाने को कहा है। जांच कर 31 जुलाई तक रिपोर्ट मांगी गई है। प्रदेश के विवि-कॉलेजों को मिलाकर करीब 13 हजार शिक्षक इस समय कार्यरत हैं। अपर मख्य सचिव उच्च शिक्षा मोनिका एस गर्ग ने डीएम को भेजे निर्देश में कहा है कि जिले में एडीएम की अगुआई में जांच कमिटी बनेगीजिसमें अपर पुलिस अधीक्षक व क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी सदस्य होंगे। इस कमिटी की निगरानी में जिलों में दो और कमिटी बनेगीविवि व राजकीय कॉलेजों की जांच के लिए एसडीएम की सब कमिटी होगी, जिसमें राजकीय कॉलेज का एक वरिष्ठ प्रवक्ता व विवि के वित्त अधिकारी सदस्य होंगे। वहीं, एडेड कॉलेजों की जांच के लिए एसडीएम की उप कमिटी में संबंधित जिले के राजकीय कॉलेज का वरिष्ठतम प्राचार्य व प्रवक्ता शामिल होगा। कमिटी चयनित सूची के साथ ही कोषागार से वेतन सूची का मिलान करेगीयह भी देखा जाएगा कि चयनित शिक्षक ने संबंधित भर्ती के लिए आवेदन किया था योग्यता पूरी की थी या नहीं और उसके शैक्षिक दस्तावेज और आरक्षण संबंधी दस्तावेज सही हैं कि नहीं।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,