5830 क्रय केन्द्रों पर 663364 किसानों के माध्यम से 35.76 लाख मी0टन गेहू खरीद गयी-मनीष चौहान

लखनऊ,आयक्त खाद्य एवं रसद विभाग, उत्तर प्रदेश मनीष चौहान ने कहा है कि प्रदेश में रबी विपणन वर्ष 2020-21 में मूल्य समर्थन योजना के अन्तर्गत 15 अप्रैल, 2020 से 30 जन, 2020 तक खरीद की गयी। खाद्य विभाग तथा अन्य क्रय एजेन्सियों (पी०सी०एफ0यू०पी०एग्रो०यू०पी०एस०एस०, एस०एफ०सी० पी०सी०य. कक०नि०, एन०सी०सी०एफ०, नैफेड भा०खा०नि०) के द्वारा सम्पूर्ण प्रदेश में 55 लाख मी0टन गेहें खरीद व 5000 क्रय केन्द्र खोलने लक्ष्य रखा गया था, जिसके सापेक्ष दिनांक 30.06.2020 को गेहूं खरीद समाप्त होने के उपरान्त के 5830 क्रय केन्द्रों पर 663364 किसानों के माध्यम से 35.76 लाख मी0टन गेहू खरीद गयी, जो कि लक्ष्य का 65 प्रतिशत है तथा रू-6558.66 करोड़ का भुगतान पी०एफ०एम०एस0 माध्यम से सीधे उनके बैंक खाते में प्रेषित किया जा चका है। अभी तक भा०खा०नि० में 33.लाख मी०टन गेहूँ की डिलीवरी कर दी गयी है, जो कि लगभग 95 प्रतिशत है। उल्लेखनीय है कि इस वर्ष कोविड-19 के कारण लॉकडाउन से उत्पन्न विषम परिस्थितियों में किसानों को उनकी उपज की बिक्री कराने व समर्थन मूल्य योजना का उचित लाभ दिलाने की कठिन परिस्थितियों खाद्य विभाग व विभिन्न क्रय एजेन्सियों के माध्यम से क्रय केन्द्रों पर सोशल डिस्टेन्सिंग लॉकडाउन के निर्देशों का पालन करते हये किसानो से गेहूं खरीद सुनिश्चित की गयी तथा उक्त समस्या के कारण क्रय केन्द्रों पर अनावश्यक भीड़ न एकत्र हो, जिसके लिए कृषकों को ऑनलाइन टोकन व क्रय केन्द्र पर ही पंजीकरण कराते हये अपना गेहूँ बिक्री करने की व्यवस्था की गयीइसी प्रकार लॉकडाउन के कारण बोरा उत्पादक फर्म व जुट मिल बन्द होने के कारण बोरों की उपलब्धता बनाये रखने हेतु भारत सरकार व अन्य राज्य सरकारों से समन्वय स्थापित करते हुये विशेष प्रयास करते हुये जेम पोर्टल के माध्यम से 01 लाख बेल्स (05 करोड़) पी0पी0 बोरे खरीदे गये तथा 20,000 बेल्स (01 करोड़) पुराने बोरों की व्यवस्था कराते हये गेहूँ खरीद की गयी। लॉकडाउन के समय क्रय केन्द्रों पर किसानों के आवागमन तथा केन्द्रों पर क्रय किये गये गेहूँ की दलाई हेतु जिला प्रशासन की सहायता से ई-पास आदि की व्यवस्था कराते हये सुचारू रूप से गेहूँ खरीद कार्य सम्पन्न किया गया। इस वर्ष 2020-21 में लक्ष्य के सापेक्ष 06 सर्वाधिक गेहूँ खरीद करने वाले मण्डल अलीगढ़ 99%), आगरा(88%), सहारनपुर(79%), झांसी(76.5%), चित्रकूट(76%), बरेली (72%) हैं तथा लक्ष्य के सापेक्ष 10 सर्वाधिक गेहूं खरीद करने वाले जनपदों में शामली(123%), कासगंज(107%), आगरा(107%), अलीगढ़(106%), सीतापुर(96%), एटा(91%), मथुरा(91%), हाथरस(90%). पीलीभीत/87%) व सहारनपुर(82%) शामिल हैं। गतवर्ष 2019-20 में भी 55 लाख मी0टन के सापेक्ष .04 लाख मी0टन खरीद की गयी, जो कि लक्ष्य का 67.35 प्रतिशत था। इस वर्ष भी गतवर्ष के समतुल्य ही खरीद की गयी है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,