चिकित्सा शिक्षा विभाग की कोरोना की जांच से सम्बन्धित नई लैब अगस्त माह में प्रारम्भ हो जायेगी - अवनीश कुमार अवस्थी

लखनऊ: 16 जुलाई, 2020

 

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना श्री अवनीश कुमार अवस्थी ने आज यहां लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिये है कि कोविड-19 तथा संचारी रोग के नियंत्रण के सम्बन्ध में अन्र्तविभागीय समन्वय के माध्यम से समग्र रणनीति तैयार कर उसका प्रभावी क्रियान्वयन कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि सभी 75 जनपदों में वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी तथा वरिष्ठ पुलिस अधिकारी नामित किये गये है। उन्होंने कहा है कि शासन द्वारा जनपदवार नामित किए गए वरिष्ठ प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारीगण अपने प्रभार वाले जनपद में स्वच्छता एवं सेनिटाइजेशन के विशेष अभियान की माॅनिटरिंग करें। सभी नोडल अधिकारी शुक्रवार शाम को अपने संबधित जनपद में अवश्य पहुच जाये। अभियान के दौरान कोविड-19 तथा संचारी रोगों की रोक-थाम, मेडिकल स्क्रीनिंग की कार्यवाही, स्वच्छ पेयजल आपूर्ति, स्वच्छता एवं सेनिटाइजेशन सम्बन्धी कार्य पूरी गति से संचालित किए जाएं। उन्होंने विशेष स्वच्छता एवं सेनिटाइजेशन अभियान के दौरान छिड़काव व फाॅगिंग अनिवार्य रूप से कराए जाने के निर्देश भी दिए हैं। 

श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने प्रदेश में 48 हजार टेस्ट प्रतिदिन की टेस्टिंग क्षमता अर्जित किए जाने पर संतोष व्यक्त करते हुए इसे बढ़ाकर 50 हजार टेस्ट प्रतिदिन किए जाने पर बल दिया है। उन्होंने कहा है कि इसके अन्तर्गत आर0टी0पी0सी0आर0 विधि से 30-35 हजार टेस्ट, ट्रूनैट मशीन से 2-2.5 हजार टेस्ट तथा रैपिड एन्टीजन टेस्ट के माध्यम से 20-25 हजार टेस्ट प्रतिदिन किए जाएं। उन्होंने बताया कि चिकित्सा शिक्षा विभाग की नयी लैब अगस्त माह में क्रियाशील हो जायेगी, इससे प्रदेश में कोविड-19 की जांच की क्षमता और बढ़ जायेगी। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि टेली कन्सल्टेंसी द्वारा चिकित्सीय परामर्श को प्रोत्साहित किया जाए। उन्होंने कोविड-19 से बचाव के सम्बन्ध में लोगों को जागरूक करने में इलेक्ट्राॅनिक व प्रिंट मीडिया के साथ-साथ जगह-जगह पब्लिक एड्रेस सिस्टम का उपयोग किए जाने पर भी बल दिया। उन्होंने बताया कि जनपद झांसी, वाराणसी, लखनऊ, कानपुर नगर तथा प्रयागराज में विशेष सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। इसके दृष्टिगत इन जिलों में कोविड-19 के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए प्रभावी कदम उठाए जाएं।

श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि पुलिस बल को संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए सभी सावधानियां बरती जाएं। प्रवर्तन ड्यूटी करने वाले पुलिस कार्मिकों को मास्क, ग्लव्स तथा सेनिटाइजर अनिवार्य रूप से उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने बताया कि पुलिस विभाग को कोविड-19 से लड़ने के लिए 40 करोड़ से अधिक का अतिरिक्त बजट उपलब्ध कराया गया है। उन्होंने बताया कि पुलिस बल में संक्रमण फैलने पर जिम्मेदारी निर्धारित की जायेगी। कन्टेनमेंट जोन में पुलिस बल को सहयोग प्रदान करने के लिए होमगार्ड तथा पी0आर0डी0 के जवानों के साथ-साथ एन0सी0सी0 कैडेटों की सेवाएं भी प्राप्त करने पर बल दिया। उन्होंने कहा है कि कोविड-19 एक संक्रामक रोग है, जिसे नियंत्रित रखने में साफ-सफाई अत्यन्त आवश्यक है। इसके दृष्टिगत एल-1 कोविड अस्पताल वहीं बनाए जाएं, जहां स्वच्छता सहित सभी बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध हों। उन्होंने एल-1 कोविड चिकित्सालयों की व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरुस्त रखने के लिए सभी जरूरी उपाय सुनिश्चित करने के निर्देश देते हुए कहा है कि एल-1 श्रेणी के कोविड अस्पतालों में भर्ती मरीजों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराई जाए।

श्री अवस्थी ने बताया कि गृह विभाग की धारा 188 के तहत 1,12,466 एफआईआर दर्ज करते हुये 2,64,103 लोगों को नामजद किया गया है। प्रदेश में अब तक 95,16,974 वाहनांे की सघन चेकिंग में 63,217 वाहन सीज किये गये। चेकिंग अभियान के दौरान 46,43,82,592 रूपए का शमन शुल्क वसूल किया गया। कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 1002 लोगों के खिलाफ 749 एफआईआर दर्ज करते हुए 357 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि फेक न्यूज के तहत अब तक 1848 मामलों को संज्ञान में लेते हुए कार्यवाही की गई है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 4510 हाॅट स्पाॅट के 876 थानान्तर्गत 10,55,669 मकानों के 62,10,903 लोगों को चिन्हित किया गया। उन्होंने बताया कि मास्क न पहनने वालों पर धारा 188 के तहत कार्यवाही करते हुए कल 753 लोगों के खिलाफ एफ0आई0आर0 दर्ज करते हुए 1000 लोगों पर कार्यवाही की गयी है। 

श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने आज उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम द्वारा तैयार किये गये 06 बस स्टेशनों का लोकार्पण एवं 07 बस स्टेशनों का शिलान्यास किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने परिवहन निगम की बसों को झण्डी दिखाकर रवाना किया। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने नवनिर्मित बस स्टेशनों नैमिषारण्य (सीतापुर), चित्रकूट (चित्रकूट), बस शेल्टर रूधौली (बस्ती), बस शेल्टर मनकापुर (गोण्डा), बस स्टेशन डिबाई (बुलन्दशहर), अवध बस स्टेशन अयोध्या मार्ग (लखनऊ) का लोकार्पण तथा गुरसहायगंज (कन्नौज), बस स्टेशन जालौन (जालौन), बस स्टेशन कांठ (मुरादाबाद), बस स्टेशन दिबियापुर (औरैया), बस स्टेशन अलीगंज (एटा), बस स्टेशन बदलापुर (जौनपुर), बस स्टेशन चायल (कौशाम्बी) का शिलान्यास किया। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने परिवहन निगम द्वारा कोविड-19 के आपदाकाल में 37 लाख कामगारों/श्रमिकों को गंतव्य तक पहुंचाने का जो कार्य किया है, वह अत्यन्त सराहनीय है। इसके लिए मुख्यमंत्री जी ने उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के कार्मिकों को बधाई दी। 

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में टेस्टिंग का कार्य तेजी से किया जा रहा है। प्रदेश में कल एक दिन में सर्वाधिक 48,086 सैम्पल की जांच की गयी। इस प्रकार कोविड-19 की जांच में 13 लाख का आकड़ा पार करते हुए प्रदेश में अब तक कुल 13,25,327 सैम्पल की जांच की गयी है। प्रदेश में विगत 24 घंटंे में 2,083 नये मामले आये है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 15,720 कोरोना के मामले एक्टिव हैं। अब तक 26,675 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि पूल टेस्ट के अन्तर्गत कुल 2762 पूल की जांच की गयी, जिसमें 2443 पूल 5-5 सैम्पल के तथा 319 पूल 10-10 सैम्पल की जांच की गयी। 

श्री प्रसाद ने बताया कि आरोग्य सेतु ऐप से अलर्ट जनरेट आने पर कन्ट्रोल रूम द्वारा निरन्तर फोन किया जा रहा है। अलर्ट जनरेट होने पर अब तक लगभग 2,66,785 लोगों को कंट्रोल रूम द्वारा फोन कर जानकारी प्राप्त की गयी। उन्होंने बताया कि सी0एम0 हेल्प लाइन से भी निरन्तर फोन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सभी कार्यालयों, औद्योगिक प्रतिष्ठानों एवं अन्य ऐसे स्थान जहां लोगों की भीड़ इकट्ठा होती है, वहां पर कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना की गयी है। प्रदेश में अब तक 54,579 हजार कोविड हेल्प डेस्क विभिन्न विभागों थानों, तहसीलों, विकास खण्डों तथा औद्योगिक इकाइयों में स्थापित किये जा चुके है। उन्होंने कहा कि कोविड हेल्प डेस्क एक उपयोगी प्लेटफार्म है।

श्री प्रसाद ने बताया कि रजिस्ट्रार जनरल आफ इण्डिया द्वारा मातृ मृत्यु दर के जारी आकंड़े के अनुसार वर्ष 2016-17 में प्रदेश में मातृ मृत्यु दर में गिरावट आयी है। प्रदेश में मातृ मृत्यु दर 216 प्रति लाख से घटकर 197 प्रति लाख हो गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले तीन वर्ष में 19 जनपदों में निमोकोकिल वैक्सीन देने का कार्य किया जा रहा है। जिसे 08 अगस्त से अन्य 56 जनपदों प्रारम्भ किया जायेगा। इस प्रकार प्रदेश के सभी 75 जनपद निमोकोकिल वैक्सीन से आच्छादित हो जायेंगे। सभी जनपदों में निमोकोकिल वैक्सीन उपलब्ध हो जाने से निमोनिया के कारण बच्चों की मृत्यु में कमी आयेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में मास्क अनिवार्य कर दिया गया है। सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न पहनने पर 500 रूपये के जुर्माने का प्रावधान किया गया है। बिना मास्क के मिलने पर हर बार 500 रूपये का जुर्माना लगाया जायेगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,