एक साल बीतने के बाद भी बेतवा नदी की बाढ़ में जलमग्न हुई खरीफ की फसलों का मुआवजा नहीं मिला

 सरीला (हमीरपुर)- क्षेत्र की इछौरा गांव के किसानों को एक साल बीतने के बाद भी बेतवा नदी की बाढ़ में जलमग्न हुई खरीफ की फसलों का मुआवजा नहीं मिला है। जिससे नाराज आधा सैकड़ा से अधिक किसानों ने तहसील आकर एसडीएम को ज्ञापन दिया है। तथा मुआवजा दिलाए जाने की मांग की है।.          बीते साल बारिश के मौसम में बेतवा नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ गया था। जिसमें नदी किनारे के गांवों के किसानों की फसलें जलमग्न हो कर नष्ट हो गई थी। इछौरा गांव में भी आधा सैकड़ा से अधिक किसानों की फसलें नष्ट हुई थी। नष्ट हुई फसलों का सर्वे कराया गया था। और उन्हें मुआवजा दिया जाना था। लेकिन एक साल बीतने के बाद भी इन किसानों को धेला भी नसीब नहीं हुआ है। किसानों का आरोप है कि सरकार से धन आवंटित होने के बाद भी गांव के लेखपाल की मनमानी की वजह से उन्हें मुआवजा नहीं मिल पा रहा है। जबकि लेखपाल द्वारा आधा दर्जन लोगों को मुआवजा दिलाया गया है। जिनकी फसलें भी नष्ट नहीं हुई थी। बुधवार को ट्रैक्टर ट्राली में भरकर तहसील आए आधा सैकड़ा से अधिक किसानों ने एसडीएम को ज्ञापन देकर कहा है कि गांव में खुली बैठक कराकर मुआवजा दिलाया जाए। ज्ञापन देने में मुख्य रूप से भागीरथ, मौजीलाल, मुकेश, मूलचंद, दीपक, प्रेमचंद, रामरती, महिपाल, डालचंद, लल्लू, सुल्तान, रामदीन, दुर्ग सिंह सहित आधा सैकड़ा से अधिक किसान मौजूद रहे। मामले में एसडीएम जुबेर का कहना है जांच के बाद आगे की कार्यवाही की जाएगी।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,