जनपद में 16 जुलाई से 22 जुलाई 2020 तक मनाए जाने वाले भूजल सप्ताह के आयोजन

हमीरपुर 16 जुलाई 2020
   प्रत्येक वर्ष की भाँति पूरे प्रदेश सहित जनपद में 16 जुलाई से 22 जुलाई 2020 तक मनाए जाने वाले भूजल सप्ताह के आयोजन के संबंध में एक आवश्यक बैठक/ गोष्ठी मुख्य विकास अधिकारी कमलेश कुमार वैश्य की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में सम्पन्न हुई।
    बैठक में मुख्य विकास अधिकारी ने कहा  कि  बुंदेलखंड में पानी की कमी के दृष्टिगत भूजल संरक्षण व वर्षा जल संचयन बेहद जरूरी है इसके लिए जल के परंपरागत स्रोतों कुओं, तालाबों, नदी, नालों का सुदृढ़ीकरण किया जाय। सरफेस वाटर / वर्षा के जल का संचयन कर उसका प्रयोग सिंचाई में किया जाय, इससे भूजल  का दोहन भी नही होगा और सिंचाई के लिए सहज ही जल उपलब्ध होगा। उन्होंने कहा कि जल संरक्षण व संचयन के लिए प्रभावी प्रचार प्रसार किया जाए ,इसमें जन सहभागिता सुनिश्चित की जाए। वर्षा के जल को नदियों के माध्यम से बहकर जाने ना दिया जाए ,इसके लिए अधिक से अधिक डोप निर्माण, चेक डैम निर्माण, तालाबों आदि का निर्माण किया जाए तथा इसके इनलेट -आउटलेट को ठीक ढंग से बनाया जाए।  जल स्रोतों को प्रदूषित होने से बचाया जाए। सभी अधिकारियों द्वारा जल संचयन /जल संरक्षण के संबंध में दो अच्छे प्रोजेक्ट अवश्य बनाकर उसमें कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। मुरादाबाद मंडल की तर्ज पर सभी विद्यालयों में वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम / रूफटॉफ़ आदि  लगवाया जाए जिससे भूगर्भ जल को रिचार्ज किया जा सके। उन्होंने कहा कि विंध्याचल मंडल की तर्ज पर जल को संरक्षित करने का कार्य किया जाए।  70% से अधिक भूगर्भ जल का प्रयोग कृषि तथा संबंधित कार्यों में होता है इसके लिए ड्रिप व स्प्रिंकलर सिंचाई पद्धति का प्रयोग किया जाए इससे परंपरागत तकनीक की अपेक्षा 60% जल की बचत होती है। कहा कि भूजल एक महत्वपूर्ण एवं बहुमूल्य प्राकृतिक संसाधन है। इसके दृष्टिगत जल संरक्षण से जुड़े कार्यों में वृहद स्तर पर जागरूकता अभियान चलाया जाए। जल की हर एक बूंद को संरक्षित करने के उद्देश से भूजल सप्ताह का आयोजन किया जाए। इस वर्ष का जल संचयन का विचार बिंदु " वर्षा जल है जीवन धारा ,इसका संचयन संकल्प हमारा " रखा गया है।
   बैठक में जिला विकास अधिकारी, जिला उद्यान अधिकारी, अधिशासी अभियंता मौदहा बांध, सहायक अभियंता लघु सिंचाई ,भूमि संरक्षण अधिकारी ने जल संचयन के संबंध में अपने अपने विचार व्यक्त किए।
     
     इस मौके पर जिला विकास अधिकारी विकास, उपायुक्त स्वतः रोजगार कमलेश कुमार, जिला कृषि अधिकारी सरस् तिवारी, जिला विद्यालय निरीक्षक, अधिशासी अभियंता मौदहा बांध, सहायक अभियंता लघु सिंचाई, बीडीओ तथा अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,