कोविड-19 संचारी रोग नियंत्रण अभियान, स्वच्छ पेयजल, जलभराव तथा फागिंग के कार्यों की समीक्षा


झांसी,जनपद में कोविड एल-1 हॉस्पिटल में सारी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाए। साफ-सफाई का बेहतर इंतजाम हो रोस्टर अनुसार मरीजों को शौचालय प्रयोग हेतु कहा जाए। जिससे मरीजों के साथ उपस्थित तीमारदारों एवं नए लोगों में संक्रमण न  फैले। संचारी रोग नियंत्रण अभियान का व्यापक प्रचार-प्रसार किए जाने के निर्देश।
 उक्त निर्देश जनपद नोडल अधिकारी श्री सुरेश चंद्रा अपर मुख्य, सचिव श्रम एवं सेवायोजन विभाग उत्तर प्रदेश में विकास भवन सभागार में आयोजित कोविड-19 संचारी रोग नियंत्रण अभियान, स्वच्छ पेयजल, जलभराव तथा फागिंग के कार्यों की समीक्षा करते हुए दिए।
 नोडल अधिकारी श्री सुरेश चंद्रा अपर मुख्य सचिव ने कोविड-19 की बिंदुवार समीक्षा की और जनपद में मेडिकल कॉलेज कोविड-19 हॉस्पिटल सहित एल-1 हॉस्पिटल में उपलब्ध बेड की जानकारी ली। उन्होंने निर्देश देते हुए कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बड़ागांव, सामूहिक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बरुआसागर, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गरौठा एवं मऊरानीपुर में सेंट मेरी इंटर कॉलेज में 100-100 बेड की क्षमता के एल-1 हॉस्पिटल तैयार किए गए हैं, वहां सारी व्यवस्थाएं सुनिश्चित कर ली जाए। इसी प्रकार एल-1 प्राइवेट हॉस्पिटल चिरंजीवी तथा लाइफ लाइन हॉस्पिटल में 10-10 बेड की उपलब्धता है। उन्होंने कहा कि भ्रमण करते हुए वहां उपलब्ध व्यवस्थाओं की जानकारी प्राप्त कर लें ताकि जरूरत पड़ने पर तत्काल पेशेंट को भेजा जा सके।
 अपर मुख्य सचिव श्री सुरेश चंद्रा ने कोविड-19 की समीक्षा करते हुए कहा कि सीएचसी बड़ा गांव में 100 बेड के सापेक्ष 50 बेड अभी रिक्त हैं तथा ऑक्सीजन के 20 सिलेंडर उपलब्ध हैं। जिनका अभी तक उपयोग नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि गंभीर मरीजों को संवेदनशील होकर चेकअप किया जाए और जरूरत पड़ने पर तत्काल ऑक्सीजन लगाई जाए। सीएचसी में पल्स मीटर के प्रयोग ना होने पर उन्होंने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि ऐसे मरीज जो 60 वर्ष के ऊपर आयु के हैं उन्हें इम्यूनिटी बढ़ाए बढ़ाने हेतु जागरूक करें। क्षेत्र में कोरोना बीमारी से संबंधित सामग्री जैसे मास्क, पीपीई किट, हैंड ग्लब्स आदि की पर्याप्त मात्रा उपलब्ध हो। 
बैठक में जिलाधिकारी श्री आन्द्रा वामसी ने बताया कि जनपद में 11706 कोविड-19 की जांच की जा चुकी है, जिसमें 9504 नेगेटिव किए जा चुके हैं। 1645 की जांच रिपोर्ट आना शेष है, जिसमें से 195 मरीजों के सैम्पल रिजेक्ट किए जा चुके तथा 362 मरीजों के केस पॉजिटिव पाए गए। सक्रिय मरीजों की संख्या 215 है। कुल क्वारंटाइन मरीज की संख्या 3030 है।
इस मौके पर एसएसपी श्री डी प्रदीप कुमार, मुख्य विकास अधिकारी श्री निखिल टीकाराम फुंडे, सीएमओ डॉक्टर गजेंद्र गजेंद्र कुमार निगम सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,