मण्डायुक्त द्वारा सचांरी रोग एई/जेईएस समीक्षा


महराजगंज 29 जुलाई, गोरखपुर मण्डलायुक्त जयन्त नार्लिकर व जिलाधिकारी डा उज्जवल कुमार ने फरेन्दा तहसील सभागार में स्वास्थ्य अधिकारियो के साथ कोविड 19 वैश्विक महामारी कोरोना हेतु किये जा रहे कार्यो ,सचांरी रोग ए ई/ जे ई एस व स्वच्छता की समीक्षा बैठक की गयी । समीक्षा बैठक में कोरोना मरीज महिला को वेन्टीलेटर की आवश्यकता के उपरान्त मेडिकल कालेज में किसी प्रकार का रिस्पान्स व एडमिट न लेने के पश्चात मेडिकल कालेज बस्ती में रिफर करने पर एडी गोरखपुर व सीएम ओ के प्रति नाराजगी ब्यक्त करते हुए कहा कि कोरोना को सामान्य रोग न समझे । इसे गम्भीरता से ले,और पूरी तत्मन्यता के साथ कार्य करे,अन्यथा लापरवही क्षम्य नही होगा । शासन स्तर पर भी कार्यवाही होगी । साथ ही ए डी हेल्थ को निर्देश दिया कि मेडिकल कालेज के प्रिन्सिपल के विरूध्द स्पष्टीकरण काल करते हुए वेतन वाधित करने की कार्यवही की जाय,तथा यह भी निर्देश दिया कि वाटस्प ग्रुप बनाये,जिससे कोई हिलाहवाली न बरते,अन्यथा स्वयं कार्यवाही के लिए तैयार रहे ।

उन्होने ने कहा कि कोरोना में रोस्टर अनुसार डाक्टरो की डियूटी लगे एवं मरीजो को सावधानी बरते की सलाह व स्वय भी बरते । मानव संसाधन की सामग्री को  समुचित उपयोग में ले । लैब टेक्निशियनो से कार्य लिए जाय, जिससे ज्यादा से ज्यादा सैम्पलिगं हो और जाच । कोरोना में लम्बी लडा़ई लेनी है लापरवाही होगी तो समस्या पैदा होगा ।

मण्डायुक्त द्वारा सचांरी रोग एई/जेईएस समीक्षा में फरेन्दा ब्लाक के भारीभैसी का 8 वर्षीय बालक की जेईएस में मृत्यु में सी एम एस ए के राय की लापरवाही पाये जाने पर तत्काल प्रभाव से वेतन बाधित किया गया । बच्चे को प्राईवेट में आवास पर डा0राकेश रमन व विशाल चौधरी द्वारा इलाज किये जाने व हास्पीटल में भर्ती न किये जाने के फलस्वरूप बच्चा भटकता रहा और मृत्यु हो गयी । डा0राकेश रमन व विशाल चौधरी की कार्यो का मजिस्टेटी जाच हेतु जिलाधिकारी को निर्देशित दिया । इस प्रकार सात माह में फिबर के बच्चे परतावल व धानी में मात्र 7 -7 बच्चे तथा निचलौल में 11 बच्चे भर्ती किये गये है एवं सदर हास्पीटल में चार सर्जन डाक्टरो द्वारा चार माह में मात्र 9 सामान्य सर्जरी किया गया है । जो लापरवाही का घोतक बताया ।

स्वच्छता अभियान में सभी ई ओ से कहा कि अपनी आत्म सम्मान के लिये भी कार्य किया जाय । नगर क्षेत्र की सरकारी भूमि व प्राइवेट भूमि पर कचडा का निस्तारण न किया जाय,कचरा निस्तारण का सालिटबेस्ट का निमार्ण कर कचरे का निस्तारण किया जाय । अच्छा कार्य करेगें तो नगर क्षेत्र में आपकी ही नाम होगा ।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी पवन अग्रवाल,एडी गोरखपुर,डब्लू एच ओ ,सीएम ओ, जिला स्तरीय अधिकारी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,