मुख्यमंत्री ने एच0यू0आर0एल0 के सीडिंग कार्यक्रम के अन्तर्गत आर0सी0एफ0 यूरिया उर्वरक रैक के जनपद गोरखपुर आगमन अवसर पर उ0प्र0 में यूरिया की बिक्री का शुभारम्भ किया

लखनऊ: 15 जुलाई, 2020

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने केन्द्र व राज्य सरकार की कृषि व किसान कल्याण के लिए प्रतिबद्धता को दोहराते हुए कहा है कि प्रदेश व पूर्वांचलवासियों को अब यूरिया खाद की उपलब्धता आसान होगी। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान उर्वरक एवं रसायन लि0 के गोरखपुर संयंत्र में अगले वर्ष उत्पादन आरम्भ होेने से, इन क्षेत्रों में किसानों को न सिर्फ यूरिया खाद मिलेगी, बल्कि उन्हें कृषि के सम्बन्ध में जानकारी भी उपलब्ध होगी, जिससे वे जागरूक होंगे। यूरिया के क्षेत्र में देश को आत्म-निर्भर बनाने की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम होगा।

मुख्यमंत्री जी आज यहां अपने सरकारी आवास पर हिन्दुस्तान उर्वरक एवं रसायन लि0 (एच0यू0आर0एल0) के सीडिंग कार्यक्रम के अन्तर्गत आर0सी0एफ0 यूरिया उर्वरक रैक के जनपद गोरखपुर आगमन के अवसर पर वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने एच0यू0आर0एल0 द्वारा यूरिया की उत्तर प्रदेश में बिक्री का शुभारम्भ किया। उन्होंने किसानों तथा एच0यू0आर0एल0 को बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए कहा कि यह कार्यक्रम गोरखपुर के एच0यू0आर0एल0 के खाद कारखाने के लिए महत्वपूर्ण अवसर है। सीडिंग कार्यक्रम के अन्तर्गत एच0यू0आर0एल0 गोरखपुर द्वारा यूरिया का विपणन किया जाएगा। एक वर्ष के भीतर वर्ष 2021 में एच0यू0आर0एल0 गोरखपुर उर्वरक संयंत्र के प्रारम्भ होेने की आशा व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि इससे उत्पादित यूरिया किसानों को उपलब्ध करायी जाएगी। यूरिया उपलब्ध कराने के साथ-साथ एच0यू0आर0एल0 किसानों को कई अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध कराएगी, जिसमें कृषि सलाह, फसल संरक्षण, मौसम की जानकारी, आधुनिक तकनीक, जैविक खेती, फसल चक्र आदि शामिल होंगे। 

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि एच0यू0आर0एल0 द्वारा गोरखपुर (उत्तर प्रदेश) बरौनी (बिहार) एवं सिंदरी (झारखण्ड) में पूर्व काल की यूरिया उत्पादन की तीन इकाइयों का पुनर्निर्माण किया जा रहा है। गोरखपुर का खाद संयंत्र जून, 1990 में बन्द हो गया था। 26 वर्ष बाद जुलाई, 2016 को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा इसके पुनर्निर्माण की आधारशिला रखी गयी। पहले यह कारखाना क्षेत्र की पहचान था। इसी प्रकार कई चीनी मिलें भी बन्द हो गयीं और लोगों का पलायन हुआ। विकास, आधुनिक तकनीक, उर्वरक तथा रसायनों, रोजगार, किसानों के हित के लिए उर्वरक कारखानों की महत्वपूर्ण भूमिका है। प्रधानमंत्री जी ने इस आवश्यकता के दृष्टिगत बन्द पड़े खाद कारखानों के पुनर्निर्माण का कार्य प्रारम्भ कराया। 

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोविड-19 जैसी वैश्विक महामारी से जूझने के बावजूद एच0यू0आर0एल0 द्वारा निर्माण कार्य को जारी रखा जा रहा है। यह किसानों की मदद तथा सामाजिक प्रतिबद्धताओं को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन द्वारा परियोजना को समयबद्ध ढंग से पूर्ण करने के लिए हर सम्भव सहयोग दिया जा रहा है। 

एच0यू0आर0एल0 के एम0डी0 श्री अरुण कुमार गुप्ता ने कम्पनी के क्रमिक विकास की जानकारी देते हुए कहा कि कोविड-19 की परिस्थितियों में भी सभी सावधानियां बरतते हुए गोरखपुर प्लाण्ट का निर्माण कार्य चल रहा है तथा यह परियोजना समयबद्ध ढंग से पूरी होगी। उन्होंने मुख्यमंत्री जी एवं सभी अधिकारियों के प्रति आभार व्यक्त किया। 

 इस अवसर पर कृषि मंत्री श्री सूर्य प्रताप शाही, उ0प्र0 राज्य बीज प्रमाणीकरण संस्था की अध्यक्ष सुश्री रेखा वर्मा, मुख्य सचिव श्री आर0के0 तिवारी, कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आलोक सिन्हा, अपर मुख्य सचिव कृषि श्री देवेश चतुर्वेदी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी तथा एच0यू0आर0एल0 के विपणन प्रमुख श्री गुरु प्रसाद एवं अन्य प्रतिनिधिगण उपस्थित थे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,