पवित्र सावन माह प्रारंभ, आदि और अन्त सोमवार से


संत कबीर नगर। देवाधिदेव भगवान शिव को अति प्रिय सावन मास सोमवार से प्रारंभ हुआ तो माह का अंत भी सोमवार से होगा। इस वर्ष सावन 29 दिन का होगा। कोरोना संक्रमण के वजह से जिलें मे पहले सोमवार को कोई बड़ा आयोजन नही हुआ।

            भक्तों के लिए शिवालयों को अभिषेक और दर्शन के लिए बंद रखा गया। भक्तों ने अपने-अपने घरों में या आसपास के शिव मंदिरों में भगवान शिव की आरधना और उपासना किए।

       इस बार सावन माह 29 दिन का है और भक्तों को भगवान की पूजा-अर्चना के लिए पांच सोमवार मिल रहे हैं। 


 

इस वर्ष सावन विशेष योग संयोग लेकर आया है। 6 जुलाई सोमवार से सावन का श्रीगणेश सर्वार्थ सिद्धि योग में उत्तराषाढ़ा नक्षत्र व मकर राशि में हुआ है। धर्म शास्त्रों के अनुसार सावन मास में भगवान श्री हरि विष्णु योगनिद्रा में जाते है तो भूत भावन मृत्युंजय भगवान शिव जी का जागरण होता है। इस वर्ष सावन मास 29 दिनों का है और भगवान शिवजी के प्रिय सोमवार से प्रारंभ होकर सोमवार को ही समाप्त होगा।

         कई वर्षों बाद इस प्रकार का दुर्लभ संयोग आया है कि पवित्र सावन मास 5 सोमवार है।

       पंचांगीय स्तिथि के में कृष्ण पक्ष पूरे 15 दिनों का होगा तो शुक्ल पक्ष में अष्टमी तिथि का क्षय है, ऐसे में सप्तमी और अष्टमी दोनों 27 जुलाई सोमवार को पड़ेगी। साथ ही इस वर्ष दोनों पक्षों में शनि प्रदोष का महायोग, रवि पुष्य व सर्वार्थसिद्धि के साथ सोमवार व हरियाली अमावस्या का दुर्लभ संयोग और सोमवार श्रावणी, रक्षा बंधन तथा पूर्णिमा को भी शिवजी की कृपा प्राप्त होगी, यह संयोग 20 जुलाई को निर्मित हो रहा है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,