टिड्डियों का एक दल जनपद महोबा के विकासखण्ड पनवाड़ी के ग्राम टोला पातर एवं रूरीकला ग्रामों बीच एक छोटे पहाड़ पर प्रवास की स्थिति में

लखनऊ: 05 जुलाई, 2020आज दिनांक 05.07.2020 की सायं प्राप्त सूचना के अनुसार टिड्डियों का एक दल जनपद महोबा के विकासखण्ड पनवाड़ी के ग्राम टोला पातर एवं रूरीकला ग्रामों बीच एक छोटे पहाड़ पर प्रवास की स्थिति में है। जनपद झॉसी के विकासखण्ड मऊरानीपुर में टिड्डियों का एक दल उड़ान पर है तथा टिड्डियों का एक अन्य दल जालौन से उड़ कर झॉसी के गुरसराय, सिमथरा, चिरगाँव होते हुए मध्य प्रदेश चला गया है। कृषि विभाग की टीम टिड्डी दलों पर निरन्तर निगरानी रखे हुए है तथा टिड्डी दलों के आश्रय लेते ही उनके नियंत्रण की कार्यवाही की जायेगी। उपरोक्त जनपदों के सीमावर्ती जनपदों को एलर्ट रहने के निर्देश दिये गये हैं। कल दिनांक 04.07.2020 की रात्रि टिड्डियों का एक दल जनपद झांसी के विकासखण्ड बामौर के अस्ता एवं मंडौरी गाँवों में प्रवास किया था, जिसको जनपद की कृषि विभाग की टीम अग्निशमन की 02 गाडियों, भारत सरकार के 01 स्प्रेयर वाहन तथा 01 नैपसैप स्प्रेयर की सहायता से लैम्बडासाईहैलोथिन 5 प्रतिशत ई0सी0 का छिड़काव कर 28-32 प्रतिशत तक मार दिया। कल रात्रि में ही जनपद महोबा के विकासखण्ड पनवाड़ी के ग्राम भूरा टोडर में टिड्डियों एक दल प्रवास किया था, जिसको जनपद की कृषि विभाग की टीम ने अग्निशमन की 02 गाड़ियों एवं भारत सरकार की 01 स्प्रेयर वाहन की सहायता से क्लोरपायरीफास 20 प्रतिशत ई0सी0 एवं लैम्बडासाईहैलोथ्रिन 5 प्रतिशत ई0सी0 का छिड़काव कर 20-30 प्रतिशत तक मार दिया। कल रात्रि में ही जनपद महोबा के विकासखण्ड पनवाड़ी के ग्राम भूरा टोडर में टिड्डियों का एक दल प्रवास किया था, जिसको जनपद की कृषि विभाग की टीम ने अग्निशमन की गाड़ियों एवं भारत सरकार की 01 स्प्रेयर वाहन की सहायता से क्लोरपायरीफास 20 प्रतिशत ई0सी0 एवं लैम्बडासाईहैलोथ्रिन 5 प्रतिशत ई0सी0 का छिड़काव कर 20-30 प्रतिशत तक मार दिया। कल रात्रि में ही टिड्डियों का तीन दल जनपद जालौन के विकासखण्ड जालौन के ग्राम क्यामदी, देवरीरनवॉ एवं सिकरी राजा तथा विकासखण्ड डकोर के ग्राम गोरन एवं जैसारी कलॉ में प्रवास किया था, जिसको फायर बिग्रेड की 03 गाडियॉ, भारत सरकार के 02 स्प्रेयर वाहन तथा टैक्टर माउन्टेड 02 स्प्रेयर्स की सहायता से क्लोरपायरीफास 50 प्रतिशत ई0सी0 +साइपरमेथिन 5 प्रतिशत ई0सी0 का छिड़काव कर 40-50 प्रतिशत टिड्डियों को मार गिराया गया। टिडडी दलों के रात्रि प्रवास की दशा में ट्रैक्टर माउन्टेड स्प्रेयर्स, पावर स्प्रेयर्स, नगर निगम/नगर निकाय के छिड़काव यंत्रों, अग्निशमन विभाग की गाड़ियों से संस्तुत कृषि रक्षा रसायनों क्लोरपायरीफास 50 प्रतिशत ई0सी0, क्लोरपायरीफास 20 प्रतिशत ई0सी0लैम्बडासार्डहैलोथिन 5 प्रतिशत ई०सी०, लैम्बडासाईहैलोथ्रिन 10 प्रतिशत ई0सी0 तथा फिप्रोनिल 5 प्रतिशत एस0सी0 की रात्रि 11.00 बजे से सुबह सूर्योदय तक गहन छिड़काव की संस्तति की गई है ताकि टिड्डी दल को उनके प्रवास के ठिकानों पर नियन्त्रित/समाप्त किया जा सके।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,