ग्रामीण स्तर में गठित निगरानी समितियों को री एक्टिवेट किया जाए-सुभाष चंद्र शर्मा

होम आइसोलेशन वाले मरीजों से चिकित्सा चिकित्सीय टीम घर-घर जाकर जांच करें 


**अस्पतालों की दिन में दो बार सफाई व्यवस्था सुनिश्चित की जाए


**विधानसभा सत्र के दौरान अधिकारी कार्यालय में उपस्थित रहे



 मंडलायुक्त श्री सुभाष चंद्र शर्मा ने कोविड-19 के संबंध में बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि होम आइसोलेशन वाले पेशेंट को डॉक्टर टीम घर पर जाकर जांच करें ताकि क्या हाल है उसकी सही जानकारी मिल सके। मौके पर पेशेंट के बुखार के साथ ही अन्य जांच भी की जाए। उन्होंने कहा कि विशेष रूप से अधिक उम्र के पेशेंट जो होम आइसोलेशन में हैं,उनकी प्राथमिकता से मौके पर जाकर डॉक्टर जांच करें।
 उन्होंने ग्रामीण क्षेत्र में गठित निगरानी समितियों को पुनः एक्टिवेट करने का सुझाव दिया ताकि वहां कोविड-19 के प्रभाव को रोका जा सके। उन्होंने कहा कि निगरानी समितियों को पुनः सक्रिय करते हुए आसपास के क्षेत्रों में भ्रमण करने व संदिग्ध व्यक्तियों की सूचना तत्काल आईसीसीसी में देने की जानकारी दें। मंडलायुक्त ने शहरी क्षेत्र में भी निगरानी समितियों को सक्रिय करने के निर्देश दिए।


 बैठक में कोविड व नान कोविड हॉस्पिटल में लगातार सफाई कराई जाए। सफाई दिन में दो बार हो यह सुनिश्चित करें। एसडीएम क्षेत्र के अस्पतालों की जांच अवश्य करें ताकि सफाई व्यवस्था बनी रहे। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में जलभराव ना होने पाए। विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्र के अस्पतालों के आसपास क्योंकि ऐसा यदि ऐसा होता है तो डेंगू आदि का खतरा उत्पन्न होगा और अन्य बीमारी भी फैल सकती हैं।


मंडलायुक्त श्री सुभाष चंद्र शर्मा ने कहा कि विधानसभा सत्र प्रारंभ हो रहा है। अतः समस्त अधिकारी कार्यालय में उपस्थित रहें ताकि जरूरत पड़ने पर जो सूचना मांगी जाए उसे तत्काल प्रेषित किया जा सके। अधिकारी अवकाश पर यदि जाते हैं तो किसी जिम्मेदार को यह दायित्व दे कर जाए।


इस अवसर पर जिलाधिकारी श्री आन्द्रा वामसी, मुख्य विकास अधिकारी श्री शैलेष कुमार, नगर आयुक्त श्री अवनीश कुमार राय, जेडीए उपाध्यक्ष श्री सर्वेश कुमार दीक्षित,  अपर निदेशक स्वास्थ्य, सीएमओ सहित अन्य अधिकारी व चिकित्सक  उपस्थित रहे। 


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,