01 अक्टूबर 2020 से किसानो से होगी धान खरीद-आलोक सिन्हा,कृषि उत्पादन आयुक्त


लखनऊ: 01 सितम्बर, 2020

 

प्रदेश के कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आलोक सिन्हा ने खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में कृषकों से धान खरीद हेतु 15 सितम्बर, 2020 तक सम्पूर्ण तैयारी कर लेने के निर्देश खाद्य एवं रसद विभाग के अधिकारियों को दिये हैं। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा इस वर्ष 55 लाख मी0 टन धान क्रय करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है तथा 01 अक्टूबर 2020 से पूर्ण तैयारी के साथ किसानों से धान खरीदने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि धान क्रय हेतु निर्धारित सभी एजेंसियों एवं खरीद केन्द्रों का जियो-टैगिंग कराया जाये तथा किसानों को उनकी उपज का एवं ट्रान्सपोर्टर व राइस मिलर्स के बिल का भुगतान तत्काल हो इसके लिए आॅनलाइन बिलिंग एवं आॅनलाइन पेमेंट की प्रक्रिया को तत्काल पूरा किया जाये। कृषकों एवं राइस मिलों का पंजीकरण भी करा लिया जाये।

कृषि उत्पादन आयुक्त श्री सिन्हा आज अपने कार्यालय कक्ष में खाद्य एवं रसद विभाग के अधिकारियों के साथ खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में मूल्य समर्थन योजना के अन्तर्गत धन क्रय की तैयारी के संबंध में बैठक कर रहे थे। उन्हांेने 01 अक्टूबर 2020  से शुरू होने वाली धान खरीद के लिए निर्धारित 10 धान क्रय ऐजेंसियों तथा 3000 सेन्टर को किसानों से धान खरीदने के लिए सभी तैयारी शीघ्र करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि इस वर्ष धान की फसल अच्छी होने से प्रस्तावित लक्ष्य 55 लाख मी0 टन से 10-15 प्रतिशत तक धान खरीद बढ़ सकती है, इसके लिए उन्होंने अतिरिक्त क्रय केन्द्रों की व्यवस्था करने एवं इस हेतु कन्टीजेन्सी प्लान भी तैयार कराने के निर्देश दिये हैं।

कृषि उत्पादन आयुक्त ने सभी क्रय केन्द्रों में सुबह 09.00 बजे से शाम 05.00 बजे तक धान खरीद का समय निर्धारित किया है। उन्होंने कहा कि क्रय केन्द्रों की निर्धारित दूरी 08 किमी0 से ज्यादा दूर न हो, जिससे किसानों को असुविधा हो। साथ ही मण्डी स्थल, उप मण्डी, एग्रीकल्चर मार्केटिंग हब, मुख्य मार्ग के सार्वजनिक स्थलों को क्रय केन्द्र स्थापित करने में वरीयता दी जाये। उन्होंने कहा कि इस वर्ष धान का समर्थन मूल्य गे्रड-ए धान हेतु रू0 1888.00 प्रति कुन्तल तथा सामान्य धान हेतु रू0 1868.00 प्रति कुन्तल निर्धारित है। धान के मूल्य का भुगतान सीधे किसानों के बैंक खाते में आॅनलाइन किया जायेगा तथा राइस मिलर्स को बिल का भुगतान हेतु ई-उपार्जन पोर्टल के माध्यम से किया जायेगा। उन्होंने कहा कि क्रय एजेंसियों द्वारा आॅनलाइन पंजीकरण के आधार पर किसानों से धान खरीदा जाये और इसका विवरण पोर्टल पर भी अंकित किया जाये। उन्होंने राइस मिलों की ग्रेडिंग कराने के भी निर्देश दिये, जिससे चावल की गुणवत्ता में कमी न होने पाये। पोर्टल पर फीडिंग के लिए क्रय ऐजेंसियों को कम्प्यूटर/लैपटाॅप/आई-पैड एवं इन्टरनेट कनेक्शन आदि की सुविधायें स्वयं करनी होगी। उन्होंने धान खरीद का व्यापक प्रचार-प्रसार कराने के लिए धान खरीद का तिथिवार शिड्यूल बनाकर सूचना विभाग को उपलब्ध कराने के निर्देश दिये।

प्रमुख सचिव, खाद्य एवं रसद श्रीमती वीना कुमारी ने बैठक में बताया कि वर्तमान विपणन वर्ष में धान खरीद हेतु 10 क्रय ऐजेंसियाँ नामित हैं। जिसमें खाद्य विभाग की विपणन शाखा के साथ एस0एफ0सी0, कर्मचारी कल्याण निगम, पी0सी0एफ0, पी0सी0यू0, यू0पी0 एग्रो, यू0पी0एस0एस0, एन0सी0सी0एफ0, नैफेड एवं भारतीय खाद्य निगम हैं। उन्होंने बताया कि एन0आई0सी0 द्वारा खाद्य विभाग के पोर्टल पर साॅफ्टवेयर तैयार किया गया है जिस पर किसानों का पंजीकरण, खरीद प्रेषण व बिलिंग का विवरण आॅनलाइन फीड किया जायेगा। साथ ही इस वर्ष चावल मिलों, क्रय केन्द्रों तथा भारतीय खाद्य निगम के डिपो की जियो टैगिंग भी मोबाइल ऐप के माध्यम से करायी जायेगी। उन्होंने बताया कि पश्चिम के मण्डलों की धान खरीद 01 अक्टूबर 2020 से 31 जनवरी 2021 तक की जायेगी तथा पूर्व के मण्डलांे की धान खरीद 01 नवम्बर 2020 से 28 फरवरी 2021 तक की जायेगी।

बैठक में अपर मुख्य सचिव कृषि श्री देवेश चतुर्वेदी, प्रमुख सचिव सहकारिता श्री भुवनेश कुमार, अपर आयुक्त खाद्य एवं रसद श्री अरूण कुमार सिंह, विशेष सचिव अधिष्ठान श्री ओ0पी0 वर्मा, निदेशक मण्डी परिषद श्री जितेन्द्र प्रताप सिंह, निदेशक कृषि (सांख्यिकी) श्री विनोद कुमार के साथ क्रय ऐजेंसियों के प्रबन्ध निदेशक उपस्थित थे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या