दो बच्चों के जन्म में तीन साल का फासला जरूरी

जिला महिला अस्पताल में मनाया गया विश्व गर्भनिरोधक दिवस


0 महिलाओं को गर्भनिरोधक के अस्थाई साधनों के बारे में जानकारी दी


हमीरपुर। 26 सितंबर 2020


जिला महिला अस्पताल में शनिवार को विश्व गर्भनिरोधक दिवस मनाया गया। परिवार की खुशहाली के लिए महिलाओं को गर्भनिरोधक के अस्थाई साधनों के विषय में विस्तार से जानकारी दी गई। इसके साथ ही गर्भावस्था के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों से भी रूबरू कराया गया।


कार्यक्रम में जिला महिला अस्पताल की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ.फौजिया अंजुम ने कहा कि एक बच्चे के बाद दूसरे बच्चे के जन्म के बीच में कम से कम तीन साल का फासला होना चाहिए। यह जच्चा-बच्चा दोनों के लिए फायदेमंद होता है। जल्दी-जल्दी मां बनने से कई तरह की दिक्कतें खड़ी हो जाती हैं और परिवार के आकार बड़े होने से भविष्य में भी कठिनाइयों का सामना करना होता है। उन्होंने महिलाओं को अस्थाई गर्भनिरोधक साधनों के बारे में विस्तार से जानकारी दी।


मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.आरके सचान ने कहा कि जिले की सभी प्रसव इकाइयों में गर्भनिरोधक की सभी अस्थाई विधियां उपलब्ध हैं। इनका लाभ लें। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.एमके बल्लभ ने भी छोटे परिवारों को आज की जरूरत बताया। उन्होंने कहा कि अब वह समय नहीं रहा है, जब बड़े परिवार हुआ करते थे। मेडिकल साइंस बहुत आगे निकल चुका है। परिवार को सीमित रखने के समस्त साधन उपलब्ध हैं।


परिवार नियोजन की काउंसलर निकिता ने महिलाओं को अस्थाई साधनों अंतरा इंजेक्शन, छाया टेबलेट, आईयूसीडी, माला एन गोली आदि के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि अंतरा इंजेक्शन महिलाओं में काफी लोकप्रिय है। इससे भी अनचाहे गर्भ से बचा जा सकता है। साथ ही उन्होंने गर्भावस्था के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में भी जानकारी दी। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक सुरेंद्र साहू ने गर्भनिरोधक साधनों को अपनाने वालों को शासन द्वारा मिलने वाले लाभों के बारे में जानकारी दी। इस मौके पर लॉजिस्टिक मैनेजर अजय कुमार, डीसीपीएम मंजरी गुप्ता भी मौजूद रही।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या