हर जुबाँ का प्यार है हिन्दी

हिन्दी


कवियों का आधार है हिन्दी।
हर जुबाँ का प्यार है हिन्दी।
हिन्दुस्तान की पहचान यह,
साहित्य का संसार है हिन्दी।


माँ से बालक की पुकार है हिन्दी।
ओम जय हो कि जयकार है हिन्दी।
मोदी हर भाषण हिन्दी मे देते,
जानो जनता को स्वीकार है हिन्दी।


भारत का संविधान है हिन्दी।
अपना स्वाभिमान है हिन्दी।
हिन्दी मीर की ग़ज़ल, रुबाई,
हिन्द का अभिमान है हिन्दी।


आओ मिल हिन्दी दिवस मनाएं।
हिन्दी में मिल सब नाचे और गाएँ।
हिन्दी गीत ,ठुमरी लिखे लिखाएं
हिन्दी में झूमे तीज त्योहार मनाएं।


हिन्दी तो अपनी प्यारी भाषा।
इससे सबको मिलने की आशा।
हिन्दी सरकारी काम भी करती,
हिन्दी प्रेमियों के दिल में उतरती।


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या