***** मॉबाइल दैत्य*******

मॉबाइल  दैत्य से किनारा कीजिए

थकी हैं आँखें जरा सहारा दीजिए

 

दूर होते  जा रहें  हैं आपसी  रिश्ते

वार्तालाप कर कम दुरियाँ कीजिए

 

जो हैं बहुत दूर वो तो  समीप हुए

संग बैठों  से भी तो बातें  कीजिए

 

जिंदगी खुद तक है सिमट सी गई

बाहर क्या है, जरा झांका कीजिए

 

प्रकृति बहुत सुंदर और मनोरम है

प्रकृति रम्यता का नजारा लीजिए

 

अति हर चीज की होती घातक है

संप्रेषण यंत्रों से  किनारा कीजिए

 

आँखें थकी अनिद्रित सी फूली हुई

सुंदर नैनों का जरा बचाव कीजिए

 

मनसीरतखुद मॉबाइल का आदी है

समयानुसार निज में सुधार कीजिए

***************************

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या