राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर आयोजित हुआ वेबिनार

लखनऊ 15 सितम्बरः राष्ट्रीय शिक्षा नीति और कार्यान्वयन पर अनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के तत्वावधान में एक वेबिनार का आयोजन आज लखनऊ में किया गया। इस वेबिनार में मुख्य वक्ता के रूप में प्रोफेसर गीता गांधी किंग्डन और पैनलिस्टों में उत्तर प्रदेश सरकार के संयुक्त शिक्षा निदेशक डा. सुरेन्द्र कुमार तिवारी, एवं लखनऊ के जिला विद्यालय निरीक्षक डा. मुकेश कुमार सिंह शामिल हुए। अनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री अनिल अग्रवाल ने बताया कि एनईपी को समझने के लिए यह वेबिनार एक महत्वपूर्ण कदम था। इस वेबिनार में 174 स्कूलों के मालिकों एवं प्रधानाचार्याओं ने भाग लिया और साथ ही इस वेबिनार को वाराणसी, सीतापुर, लखीमपुर और लखनऊ से सैकड़ों लोगों के द्वारा देखा गया। मुख्य वक्ता प्रोफेसर गाँधी ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति की प्रगतिशील प्रगति के बारे में विस्तार से बात की और उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग को भी नई शिक्षा नीति को सफल बनाने के उनके प्रयासों के लिए सराहा। उन्होंने व्यावसायिक प्रशिक्षण, शिक्षक मूल्यांकन और जवाबदेही की आवश्यकता के प्रभाव की भी विस्तार से बात की। श्री सुरेन्द्र कुमार तिवारी, संयुक्त शिक्षा निदेशक का कहना था कि यह शिक्षा नीति ग्रामीण क्षेत्र में कार्यान्वयन पर ज्यादा केंद्रित है और नीति के लिए महत्वपूर्ण परिणाम के रूप में सीखने के लिए बाल केन्द्रित कैसे कार्यान्वयन है। उन्होंने सेवा मूल्यांकन, शिक्षक प्रशिक्षण और उचित मूल्यांकन माड्यूल के साथ सह पाठयक्रम को शामिल करने, छोटे क्षेत्र के ग्रामीण विद्यालयों में अवसंरचना प्रदान करने के बारे में भी आश्वासन दिया। डॉ मुकेश कुमार सिंह, जिला विद्यालय निरीक्षक ने वर्तमान परिदृश्य में कौशल विकास, प्रशिक्षण शिक्षाशास्त्र पाठ्यक्रम और आश्वासन के लिए चिंताओं के साथ कार्यान्वयन के कठिन कार्य की बात की। डा. माला मेहरा, सचिव, UPSA द्वारा संचालित प्रश्न उत्तर का दौर निजी और ग्रामीण दोनों स्कूलों में आश्वासनों और कार्यान्वयन के बारे में मिश्रित प्रश्नों का था। पैनलिस्ट हर क्वेरी का जवाब देने में सबसे आगे थे। अंतिम में निष्कर्ष यह निकला कि सरकार एनईपी के कार्यान्वयन के लिए निजी स्कूलों के साथ भागीदारी की उम्मीद कर रही है। अन्त में श्री अनिल अग्रवाल ने इस अत्यन्त ही उपयोगी वेबिनार को सफल बनाने के लिए सभी को धन्यवाद दिया।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या