संजू बरार समाजवादी अनुसूचित जाति-जनजाति प्रकोष्ठ जिलाध्यक्ष मनोनीत

सभी वर्गों का समाजवादी पार्टी में सम्मान बरकरार : तिलक यादव



मनोनयन पत्र सौंपकर जल्द कार्यकारिणी गठन के निर्देश
ललितपुर। समाजवादी पार्टी में सदैव से ही सभी वर्गों को सम्मान मिलता रहा है। इसी क्रम को आगे बढ़ाते हुये शुक्रवार को सपा जिलाध्यक्ष तिलक यादव एड. ने महरौनी निवासी ओमकार प्रसाद उर्फ संजू बरार को समाजवादी अनुसूचित जाति/जनजाति प्रकोष्ठ का जिलाध्यक्ष मनोनीत किया है। इन्द्रप्रस्थ पर अपने समर्थकों के साथ पहुंचे ओमकार प्रसाद उर्फ संजू बरार को मनोनयन पत्र सौंपते हुये जिलाध्यक्ष ने जल्द ही कार्यकारिणी का गठन करते हुये पार्टी की विचारधारा को लोगों तक पहुंचाते हुये युवाओं को जोड़ते हुये पार्टी को मजबूत बनाये रखने का आह्वान किया।
 सपा जिलाध्यक्ष तिलक यादव एड. ने कहा कि समाजवादी पार्टी ने हमेशा से सभी वर्गों का बराबर सम्मान किया है। उन्होंने कहा कि अन्य राजनैतिक दलों में जातिवाद और सामंतवाद चरम पर है। ऐसे में समाजवादी पार्टी ही है जो सभी वर्गों के सम्मान में संघर्ष करने को भी तत्पर रहती है। उन्होंने कहा कि पार्टी के प्रति सक्रियता और निष्ठा, समर्पण को देखते हुये संजू बरार को अनुसूचित जाति/जनजाति प्रकोष्ठ का जिलाध्यक्ष मनोनीत किया गया है। अपेक्षा करते हुये उन्होंने कहा कि युवाओं को राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देशों का अनुपालन करते हुये पार्टी की विचारधारा से अवगत कराते हुये अधिक से अधिक संख्या में जोडऩे का प्रयास करें। इसके अलावा सेक्टर व बूथ की समीक्षा करते हुये प्रत्येक बूथ को मजबूत बनाये रखने के लिए कार्य करें। जिला महासचिव कृष्ण स्वरूप निरंजन ने कहा कि महरौनी क्षेत्र के युवाओं में गहरी पकड़ रखने वाले संजू बरार को महत्वपूर्ण जिम्मेवारी मिली है, अब वह पार्टी को मजबूत बनाये रखने की दिशा में कार्य करें। जिला प्रवक्ता खुशालचंद्र साहू ने आह्वान किया कि प्रकोष्ठ व ब्लाक के अध्यक्ष सपा जिलाध्यक्ष द्वारा दिये जा रहे निर्देशों का अनुपालन करते हुये लोगों की समस्याओं को धरातल पर जानने का प्रयास करें और निस्तारण के लिए संघर्षरत रहें। इस दौरान महरौनी विधानसभा अध्यक्ष अमर सिंह यादव, अधिवक्ता सभा जिलाध्यक्ष मान सिंह एड., जगदीश कंचन एड. के अलावा कोमल बरार कुरौरा, खुशालचंद्र बरार, संतोष बरार खजुरिया, राजकुमार बरार, खचोरे बरार, ललित बरार सिलावन, सीताराम बरार, नीतू बरार महरौनी, कैलाश बरार टेनगा, कालीचरन बरार सतवांसा सहित अनेकों सपाई मौजूद रहे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या