यूपी के युवा हताश और परेशान, सरकार पक्की डेडलाइन बतायेः प्रियंका गाँधी

UP में 40 साल तक भर्ती होती थी,अब 50 साल में सेवानिवृत्त ?


प्रियंका गांधी ने यूपी SI भर्ती के प्रतिभागियों से संवाद किया

 

भर्तियों में देरी, उन्हें अटकाना- भटकाना युवाओं के साथ अन्याय हैः प्रियंका गाँधी

दिल्ली/लखनऊ, 21 सितम्बर 2020।
अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव श्रीमती प्रियंका गाँधी प्रतियोगी युवाओं से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बातचीत करके उनका दर्द साझा कर रहीं हैं। महासचिव ने आज ग्राम विकास अधिकारी और दारोगा भर्ती के अभ्यर्थियों से बातचीत की। गौरतलब है कि ग्राम विकास अधिकारी( VDO  ) की परीक्षा 2018 में हुई थी लेकिन अभी तक प्रतिभागियों की नियुक्ति नही हुई है। दरोगा भर्ती 2016 से लटकी पड़ी है।

कांग्रेस महासचिव व यूपी प्रभारी श्रीमती प्रियंका गाँधी ने बेरोजगार युवा प्रतिभागियों से ऑनलाइन संवाद के बाद अपने ट्विटर हैंडल से इसकी जानकारी भी शेयर की।

कांग्रेस महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गाँधी ने ट्वीट करते करते हुए कहा कि “युवा आक्रोश के बाद जागी यूपी सरकार आज बैठक कर भर्तियों पर विचार कर रही है। युवा जानना चाहते हैं कि सरकार गंभीर होकर प्रत्येक भर्ती के लिए सभी मसले सुलझाकर नियुक्ति की पक्की डेडलाइन का व्योरा रखेगी या नहीं? भर्तियों में देरी, उन्हें अटकाना-भटकाना युवा के साथ अन्याय है। यह बंद करिए।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी ने दूसरा  ट्वीट करते हुए लिखा कि “वीडीओ 2018 के युवा प्रतिभागियों से संवाद में उन्होंने बताया कि यह लोग परीक्षा दे चुके हैं, रिजल्ट आ चुका है लेकिन नियुक्ति नहीं मिली। सरकार नहीं बताती कि नियुक्ति क्यों रुकी है। भर्तियों पर हो रही सरकार की मीटिंग से इन्हें न्याय मिलना चाहिए।  

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी ने एसआई भर्ती के प्रतिभागियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के बादट्वीट करते हुए लिखा कि “यूपी में एसआई भर्ती के लोगों से आज संवाद किया। एक बात कॉमन है कि सरकार की तरफ से न तो कोई साफ कम्युनिकेशन है और न ही कोई डेडलाइन। येनकेन प्रकारेण भर्ती प्रक्रिया फँस जाती है या फँसा दी जाती है। सरकार को युवाओं को रोजगार का हक देना चाहिए न कि यह चिंता कि कब मिलेगी उनके हक की भर्ती।

 

📍संवाद करने पर एक बात कॉमन है,

📍सरकार की तरफ से कोई स्पष्ट बात नहीं है,

📍न साफ कम्युनिकेशन और न कोई डेडलाइन,

📍भर्ती प्रक्रिया फंस जाती है या फंसा दी जाती,

📍सरकार को युवाओं को रोजगार का हक देना चाहिए,


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या