53 टीमें सवा लाख की आबादी में खोजेंगी टीबी रोगी

2 से 11 नवंबर तक चलेगा सघन टीबी रोगी खोज अभियान 


0 इस साल कोरोना की वजह से मार्च में नहीं चला था अभियान 


हमीरपुर, 26 अक्टूबर 2020 


2025 तक देश से टीबी रोग को जड़ से खत्म करने के उद्देश्य से 2 से 11 नवंबर तक सघन टीबी रोगी खोज अभियान (एसीएफ) चलेगा। कोरोना संक्रमण की वजह से मार्च माह का अभियान स्थगित हो गया था। अभियान में कुल 53 टीमें और 14 सुपरवाइजर सवा लाख की आबादी में टीबी रोगी खोजने निकलेंगी। संदिग्ध मरीजों के सैंपल लेकर जांच को भेजे जाएंगे। टीबी की पुष्टि के बाद इलाज शुरू होगा। गत वर्ष अभियान में 28 नए मरीज मिले थे, जिनका इस वक्त इलाज चल रहा है। 


जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ.महेशचंद्रा ने बताया कि इस अभियान में कुल 53 टीमें और 14 सुपरवाइजर लगाए जाएंगे। जनपद के 13 सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में टीबी की जांच की व्यवस्था है। उन्होंने बताया कि कुरारा सीएचसी के तहत 14253 आबादी के बीच आठ टीमें भ्रमण कर टीबी रोगियों को खोजेंगी। टीमों का नेतृत्व डॉ.अजय चौरसिया और डॉ.अनिल कुमार करेंगे। इस दौरान टीमें 2685 घरों में दस्तक देंगी। इन टीमों के कार्य की निगरानी तीन सुपरवाइजर करेंगे। सुमेरपुर पीएचसी के तहत कुल 22010 आबादी के बीच टीबी रोगियों की खोज होगी। नौ टीमें कुल 4402 घरों में पहुंचेंगी। इन टीमों की अगुवाई डॉ.महेशचंद्रा और डॉ.पीए कादरी करेंगे। साथ में दो सुपरवाइजर भी रहेंगे। मौदहा सीएचसी के तहत 25170 आबादी में नौ टीमें दो सुपरवाइजरों के साथ 5034 घरों में दस्तक देंगी। इन टीमों की अगुवाई डॉ.अनिल सचान करेंगे। मुस्करा में 15040 आबादी के बीच छह टीमें दो सुपरवाइजरों के साथ डॉ.बीएस राजपूत की अगुवाई में 2988 घरों में दस्तक देंगी। नौरंगा सीएचसी में 20070 आबादी के बीच आठ टीमें और दो सुपरवाइजर डॉ.बीपी सिंह की अगुवाई में 4014 घरों में पहुंचकर टीबी रोगियों की खोज करेंगी। सरीला सीएचसी में 15061 आबादी का लक्ष्य लिया गया है। कुल 3013 घरों में आठ टीमें डॉ.आरपी वर्मा और दो सुपरवाइजरों के साथ अभियान में जुटेंगी। जबकि गोहाण्ड पीएचसी में 12506 आबादी के बीच पांच टीमें एक सुपरवाइजर के साथ टीबी रोगियों को खोजेंगी। डॉ.अंजुल निरंजन इस टीम की अगुवाई करेंगे। 


क्षय रोग के जिला कार्यक्रम प्रबंधक राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि जनपद साल में दो बार अभियान चलाकर दस प्रतिशत आबादी का लक्ष्य लेकर संदिग्ध टीबी रोगियों को खोजा जाता है। इस साल कोरोना संक्रमण की वजह से मार्च माह में अभियान नहीं चल पाया था। 2 से 11 नवंबर तक अभियान चलेगा और नए टीबी रोगियों को खोजकर उनका उपचार शुरू कराया जाएगा। गत वर्ष चले अभियान में कुल 28 नए रोगी मिले थे, जिनका उपचार चल रहा है। 


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या