डाॅ0 नीलकंठ तिवारी ने जनपद आगरा में छत्रपति शिवाजी महाराज संग्रहालय (म्यूजियम) के संचालन की समीक्षा की

म्यूजियम की गैलरियों में प्राचीन से अर्वाचीन आगरा के महत्वपूर्ण पर्यटन, ऐतिहासिक, धार्मिक तथा अध्यात्मिक स्थलों को भी प्रदर्शित किया जाय

आगरा एवं ब्रज क्षेत्र के खान-पान, लोकगीत, सस्कृति, चित्रकला, स्थानीय हस्तकला के सम्बंध में जानकारी विभिन्न गैलरियों के माध्यम से प्रदर्शित किया जाय

म्यूजियम के प्रवेश द्वार पर छत्रपति शिवाजी महाराज जी की अश्वारोही भव्य प्रतिमा स्थापित किया जाय

रोजगार सृजन हेतु संग्रहालय का टपंइपसजपल तथा बिजनेस प्लान बनाया जाय

म्यूजियम का संचालन ससमय प्रारम्भ किया जाय तथा परियोजना के समयबद्ध रूप से पूर्ण किये जाने हेतु विस्तृत टाइमलाइन तैयार की जाय
-डाॅ0 नीलकंठ तिवारी



लखनऊ: दिनांक: 14.10.2020
जनपद आगरा पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थल है तथा ऐतिहासिक गतिविधियों का केन्द्र रहा है, जिसमें छत्रपति शिवाजी महराज से सम्बन्धित कई महत्वपूर्ण घटनायें प्रचलित हैं। आगरा के फतेहाबाद मार्ग पर लगभग रू0 190.00 करोड़ की लागत से “छत्रपति शिवाजी महाराज संग्रहालय (म्यूजियम)” का निर्माण पर्यटन विभाग द्वारा कराया जा रहा है। इस सम्बन्ध में ताजमहल और आगरा का इतिहास के साथ छत्रपति शिवाजी महाराज का अतिमहत्वपूर्ण इतिहास भी दर्ज होगा। म्यूजियम के संचालन एवं रख-रखाव हेतु कंसल्टेंसी फर्म द्वारा तैयार किये गये प्रस्तुतीकरण का मंत्री जी द्वारा आज पर्यटन भवन स्थित सभागार कक्ष में अवलोकन किया गया। प्रस्तुतीकरण में फर्म द्वारा अवगत कराया गया कि म्यूजियम में 08 गैलरियों का निर्माण किया गया है, जिसमें छत्रपति शिवाजी महाराज जी के जीवन काल से संबंधित घटनायें, ब्रज क्षेत्र, आगरा का इतिहास, गंगा जमुनी तहजीब, इण्डिया गैलरी, स्टेट गैलरी तथा सिटी गैलरी में चित्रण/वर्णन कर व्याख्या की जायेगी। संग्राहलय में 08 गैलरियाॅ, सोवेनियर शाॅप खान-पान, लोक-गीत, संस्कृति, चित्रकला, स्थानीय हस्तकला से सम्बन्धित चित्रकलायें प्रदर्शित की जायेंगी। यह संग्रहालय ताजमहल से निकट है। इस संग्रहालय से आगरा में आने वाले पर्यटकों की संख्या में वृद्धि होगी एवं पर्यटकों के छपहीज ैजंल में भी वृद्धि होगी तथा पर्यटन उद्योग को प्रोत्साहन मिलेगा।
पर्यटन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ0 तिवारी ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि म्यूजियम की गैलरियों में प्राचीन से अर्वाचीन आगरा के महत्वपूर्ण पर्यटन, ऐतिहासिक, धार्मिक तथा अध्यात्मिक स्थलों को भी प्रदर्शित किये जाने के निर्देश प्रदान किये गये। उन्होंने कहा कि आगरा एवं ब्रज क्षेत्र के खान-पान, लोक-गीत, संस्कृति, चित्रकला, स्थानीय हस्तकला के संबंध में जानकारी विभिन्न गैलरियों के माध्यम से प्रदर्शित की जाये। उन्होंने कहा कि म्यूजियम की भव्यता एवं सौन्दर्यता बढ़ाने के उद्देश्य से म्यूजियम के प्रवेश द्वार पर श्री छत्रपति शिवाजी महाराज जी की अश्वारोही भव्य प्रतिमा स्थापित किये जाने हेतु निर्देशित किया गया
डाॅ0 तिवारी ने रोजगार श्रृजन हेतु संग्रहालय का टपंइपसजपल तथा बिजनेस प्लान बनाये जाने के निर्देश दिये, जिससे आने वाले समय में जनपद आगरा में पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से सम्बन्धित निजी क्षेत्रों से प्रतिभागिता आमंत्रित की जा सके। उन्होंने कहा कि संग्राहलय के शैक्षणिक दृष्टिकोण से प्रचार-प्रसार किये जाने हेतु राजकीय स्कूलों/विश्वविद्यालयों से समन्वय स्थापित करते हुए आने वाले छात्र-छात्राओं को ब्रज/आगरा के इतिहास से अवगत कराया जायेगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि म्यूजियम का संचालन ससमय प्रारम्भ किया जाये तथा परियोजना को समयबद्ध रूप से पूर्ण किये जाने हेतु विस्तृत टाइम लाईन तैयार की जाय।
प्रस्तुतीकरण में श्री मुकेश कुमार मेश्राम प्रमुख सचिव पर्यटन, श्री एन0जी0 रवि कुमार सचिवध्महानिदेशक पर्यटन, श्री शिवपाल सिंह विशेष सचिव/प्रबन्ध निदेशक उ0प्र0 राज्य पर्यटन विकास निगम, कंसल्टेंसी फर्म मेसर्स आर्केंप प्रा.लि. के प्रतिनिधि एवं अन्य विभागीय अधिकारीगण उपस्थित रहें।      


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या