डाक विभाग 6 अक्टूबर को एईपीएस और 8 अक्टूबर को इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक खाते खोलने का चलाएगा अभियान

कोरोना महामारी के बीच आमजन को परेशानियों से बचाने हेतु डाक विभाग द्वारा घर-घर जाकर लोगों को न सिर्फ उनके बैंक खातों से पैसे निकालने की सुविधा दी जाएगी, बल्कि उनके नए खाते भी खुलवाए जायेंगे। वाराणसी परिक्षेत्र के अधीन 6 जनपदों  में 6 अक्टूबर को घर बैठे आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम के माध्यम से किसी भी बैंक खाते से पैसे निकालने और  8 अक्टूबर को इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के खाते खुलवाने के लिए वृहद अभियान चलाया जायेगा। उक्त जानकारी वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने दी। वाराणसी के साथ-साथ चंदौली, भदोही, जौनपुर, गाजीपुर  और बलिया जनपदों में यह विशेष अभियान सोशल डिस्टेंसिंग व कोविड 19 के प्रोटोकाल का पालन करते हुए  चलेगा।


 


पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि इस अभियान से  लोगों को धन निकासी में सुविधा के साथ-साथ घर बैठे ही बैंक खाते में प्राप्त डीबीटी राशि तत्काल उपलब्ध करायी जा सकेगी। डाकियों के पास उपलब्ध माइक्रो एटीएम से प्रतिदिन एक व्यक्ति अपने आधार लिंक्ड बैंक खाते से दस हजार रूपए तक की रकम निकाल सकता है। इस अभियान के दौरान लोगों को ऑनस्पॉट उनके दरवाजे पर ही इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के खाते खोलने की सुविधा भी प्रदान की जाएगी। सिर्फ आधार नंबर और मोबाईल नंबर के साथ यह खाता पेपरलेस रूप में खुलेगा, किसी भी प्रकार के अन्य कागजात या औपचारिकता की जरूरत नहीं होगी। इससे लोगों को भविष्य में भी घर बैठे आईपीपीबी के माध्यम से डीबीटी राशि प्राप्त करने में आसानी होगी। इस खाते के माध्यम से मोबाईल व डीटीएच रिचार्ज, बिजली व पानी बिल भुगतान जैसी तमाम सुविधाएँ मिलेंगी।


 


पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि वाराणसी परिक्षेत्र में लॉकडाउन से अब तक साढ़े पाँच लाख से अधिक लोगों को लगभग 1 अरब 54 करोड़ रुपये की राशि उनके  बैंक खातों से निकालकर घर बैठे डाकिया और ग्रामीण डाक सेवकों द्वारा प्रदान की जा चुकी है। साथ ही, वाराणसी परिक्षेत्र में अब तक करीब 3 लाख लोग इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के साथ जुड़ चुके हैं और घर बैठे  इसकी सेवाओं का लाभ ले रहे हैं।


 


पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकार विभिन्न सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के तहत वृद्धावस्था पेंशन, विधवा पेंशन, जनधन योजना, दिव्यांग पेंशन, मातृत्व वंदन योजना, उज्ज्वला, मनरेगा, पीएम किसान सम्मान निधि इत्यादि की धनराशि कोर बैंकिंग सिस्टम की सहायता से लोगों के बैंक खातों में सीधे पहुँच रही है, परन्तु कई बार नजदीक में किसी बैंक की ब्रांच, एटीएम अथवा कोई अन्य बैंकिंग सुविधा उपलब्ध न होने के चलते लोग नकद राशि नहीं निकाल पाते। इस समस्या को ध्यान में रखते हुए डाक विभाग समय-समय पर इस प्रकार के अभियान चलाकर लोगों को लाभान्वित कर रहा है।


 


श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि, इसी क्रम में  डाकघर बचत योजनाओं और सुकन्या समृद्धि योजना के खाते खोलने के लिए भी विभिन्न स्थानों पर कैंप लगाकर व डाकघरों में वृहद अभियान चलाया जायेगा। वाराणसी परिक्षेत्र में वर्तमान में 35 लाख से अधिक खाते संचालित हैं और 1.67 लाख पात्र बालिकाओं के सुकन्या समृद्धि खाते खोले जा चुके हैं।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या