"द्वार पर आई हूं मैया शरण में


"द्वार पर आई हूं मैया शरण में
अपने लेलो ना।
द्वेष,दंभ, पाखंड मिटाओ
काम,क्रोध सब दूर भगाओ।
चढ़ाती भावों के सब पुष्प
चरण में अपने लेलो ना।
द्वार पर आई हूं मैया
शरण में अपने लेलो ना।
ज्योतित करदो मार्ग हमारा
छाया है काला अंधियारा।
जीवन में नवगति भर दो मां
हरण तुम तम को कर लो ना।
द्वार पर आई हूं मैया शरण में
अपने ले लो ना।"


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या