घर का सपना पूरा कराने का दिन

सबका सपना होता है घर हो अपना| इसी उद्देश को लेकर प्रत्येक वर्ष अक्टूबर माह के पहले सोमवार को संयुक्त राष्ट्र संघ के नेतृत्त्व मेंविश्व आवास


दिवस मनाया जाता है। पहली बार वर्ष 1986 में मनाया गया था। विश्व आवास दिवस का आयोजन पहली बार केन्या की राजधानी नैरोबी में हुआ था। आज विश्व आवास दिवस 05 अक्टूबर 2020को विश्व भर में मनाया जाएगा आज आवास दिवस पर हमारे शहरों, कस्बों की स्थिति पर प्रकाश डाला जाता है और सभी को आवास प्रदान करने की आवश्यकता पर भी बल दिया जाता है। जिसके माध्यम से शहरीकरण की वजह से गरीबी तथा पर्यावरण की समस्या के प्रभाव को आँकलन किया जाता है।


यह दिवस विश्व के सभी देशों को अपने शहरों तथा महानगरों को भविष्य में सुनियोजित तरीके से बदलने तथा बसाने की जिम्मेदारी याद दिलाता है।


भारत में भी  सबके लिए आवास उपलब्ध कराने के लिए वर्ष 2015 में भारत सरकार द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना आरंभ की गई, जिसका उद्देश्य  नगरों में रहने वाले निर्धन लोगों को उनकी कमजोर आर्थिक स्तिथि के अनुकूल घर प्रदान करना है। प्रधानमंत्री आवास योजना केंद्र सरकार द्वारा संचालित योजना का उद्देश्य 2022 तक सभी को अपना घर का सपना हो पूरा  करना है | इस के लिए सरकार 20 लाख घरो का निर्माण करवाएगी जिनमे से 18 लाख घर झुग्गी –झोपड़ी वाले इलाके में बाकि 2 लाख शहरों के गरीब इलाकों में किया जायेगा |


लेकिन भारत में हर सरकारी योजना में बाधा और निष्क्रियता से  उद्देश  पूर्ण रूप से सफल नही हो पाता है| घूँस खोरी के चलते कुछ ही पार्थ लोगों को घर मिला है |प्रधानमंत्री जी आज आप से निवेदन है आज आवास दिवस पर अपने सपने को साकार करने के लिए मंत्रालय को टाइट कीजिए ताकि भारतीय कहे


आंखों में है एक सपना, सपने में है एक घर अपना, आज घर में है  परिवार अपना|


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या