झील का कंकर... 

झील का कंकर... 



हवाओं में खुमारी असर सी है
शहर तेरे आने की ख़बर सी है
यादों की झील में गुम  हो गया
मारी कंकर तो उठी लहर सी है
मुझे हर  बार जो रोक  लेती है
तेरी  निगाह  मेरा  सबर ही  है
तुमसे अलग मेरा ठिकाना नहीं
तू पुराने चौक वाली सदर सी है
"उड़ता"ये शायरी तमे-सहर सी है
हर दफा क़ातिल तेरी नज़र सी है


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या