कहने वाले...

कहने वाले...


कहते ही रह गए कहने वाले
मेरे दिल से ना गए रहने वाले
काटे हैं वक़्त बस ख़ामोशी में
चुप हैं मेरी तन्हाई सहने वाले
दोस्तों का दायरा कुछ बड़ा है
अच्छे हैं हवा संग बहने वाले
ज़ेवरों में रूह ज्यों कैद सी है
शंकाओं में घिरे रहें गहने वाले
लफ़्ज़ों में सब कैद है "उड़ता"
शब्द-अल्फाज़ को पहने वाले


 


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या