लापरवाही के चलते 02 वरिष्ठ पी0सी0एस0 अधिकारी को निलम्बित किया गया है - नवनीत सहगल


त्योहारों के अवसर पर मोहल्ला/ग्राम निगरानी समिति को और अधिक सर्तक रहने की आवश्यकता है जिससे संक्रमण को न फैलने दिया जाए- अमित मोहन प्रसाद
लखनऊ: 23 अक्टूबर, 2020

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना श्री नवनीत सहगल ने लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि प्रदेश में कोविड-19 के संक्रमण दर में लगातार गिरावट आ रही है। लेकिन यह समय और अधिक सावधान रहने का है। मा0 मुख्यमंत्री जी ने आज माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा 3317 एल-टी ग्रेड शिक्षकों को नियुक्ति पत्र वितरित किये है। गत दिनों 3100 बेसिक शिक्षकों को नियुक्ति पत्र दिये गये है। प्रदेश में  1535 थानों में महिला हेल्प डेस्क की स्थापना की गयी हैं जिसका आज शुभारंभ किया। मा0 मुख्यमंत्री जी ने सभी आयोग को भी निर्देश दिये है कि भर्ती प्रक्रिया में तेजी लायी जाये।
श्री सहगल ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा मिशन रोजगार का काम किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि औद्योगिक गतिविधियां तेजी से संचालित हो रही है। प्रदेश में विद्यमान 4.35 लाख इकाईयों को आत्मनिर्भर पैकेज के अन्तर्गत रू0 10,744 करोड के ऋण स्वीेकृत कर वितरित किये जा रहे हैं। प्रदेश में उद्योगों और निजी क्षेत्र में भी रोजगार सृजन की प्रक्रिया जारी। आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार/स्वरोजगार सृजन अभियान में इस वित्तीय वर्ष में 14 मई से आजतक 5.76 लाख नई डैडम् इकाईयों को रू0 15,484 करोड के ऋण वितरण किया गया है।
श्री सहगल ने बताया कि मा0 मुख्यमंत्री जी द्वारा धान खरीद की समीक्षा की जा रही है। मा0 मुख्यमंत्री जी ने इस संबंध में सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये है कि किसानों के धान की खरीद समय से हो तथा उन्हें धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य अवश्य मिले। मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि संबधित जिलाधिकारी की यह जिम्मेदारी होगी कि वह किसानों को धान खरीद का न्यूनतम समर्थन मूल्य अवश्य मिले। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही पाये जाने पर इस कार्य में लगे अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी। मा0 मुख्यमंत्री जी ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये है कि किसी भी किसान को समस्या न हो और सभी अधिकारी आकस्मिक निरीक्षण करे। 17 क्रय केन्द्रों के प्रभारियों के खिलाफ एफ0आई0आर0 दर्ज करायी गयी है। उन्हांेने कहा है कि किसानों से अपील कि है कि अपना धान, निकटतम धान क्रय केन्द्र पर ही लेकर जाए और बिचैलियों के सम्पर्क में न आये। उन्होंने बताया कि धान क्रय केन्द्र मंे लापरवाही के चलते 02 वरिष्ठ पी0सी0एस0 अधिकारी को निलम्बित किया गया है।  
प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,52,994 सैम्पल की जांच की गयी। प्रदेश में अब तक कुल 1,37,56,000 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना सेे संक्रमित 2298 नये मामले आये हैं। प्रदेश में विगत 24 घंटे में 3025 मरीज उपचारित होकर डिस्चार्ज हुए है। प्रदेश में अब तक कुल 4,30,962 व्यक्ति उपचारित होकर डिस्चार्ज किये गये हैं। प्रदेश में रिकवरी का प्रतिशत अब बढ़कर 92.47 प्रतिशत हो गया है। प्रदेश में 28,268 कोरोना के एक्टिव मामले हैं। एक्टिव मामलो में निरन्तर गिरावट हो रही है। उन्होंने बताया कि अब तक कुल 2,61,520 लोग होम आइसोलेशन की सुविधा प्राप्त करते हुए 2,48,592 लोगों ने अपने होम आइसोलेशन की अवधि पूर्ण कर ली है। उन्होंने बताया कि निजी चिकित्सालयों में 2418 लोग ईलाज करा रहे है। प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 1,46,015 क्षेत्रों में 4,30,880 टीम दिवस के माध्यम से 2,76,55,197 घरों के 13,61,76,130 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि चिकित्सकीय उपचार के लिए ई-संजीवनी पोर्टल शुरू किया गया है। ई-संजीवनी के माध्यम से 1717 लोगों ने चिकित्सकीय परामर्श लिया। अब तक कुल 1,58,463 लोगों ने ई-संजीवनी पोर्टल पर चिकित्सकीय परामर्श लिया। उन्होंने बताया कि सरकारी संस्थान, प्रमुख कार्यालय, प्रतिष्ठान, औद्योगिक इकाईयों में 65,370 कोविड हेल्प डेस्क स्थापित किये गये। इसके माध्यम से 9,20,370 व्यक्तियों में लक्षणात्मक चिन्हांकन किया गया।
श्री प्रसाद ने बताया कि पिछले वर्ष 22 अक्टूबर, 2019 तक डायरिया के 790 केस थे जिसमें 16 लोगों की मृत्यु हुयी थी, जबकि इस वर्ष इसी अवधि में 22 अक्टूबर 2020 तक डायरिया के 40 केस थे जिसमें कोई भी मृत्यु नहीं हुयी। पिछले वर्ष 22 अक्टूबर, 2019 तक खसरा के 243 केस थे जिसमें 02 लोगों की मृत्यु हुयी थी, जबकि इस वर्ष इसी अवधि में 22 अक्टूबर 2020 तक खसरा के 01 केस थे जिसमें कोई भी मृत्यु नहीं हुयी। पिछले वर्ष 22 अक्टूबर, 2019 तक चिकनगुनिया के 503 केस थे जिसमें 02 लोगों की मृत्यु हुयी थी, जबकि इस वर्ष इसी अवधि में 22 अक्टूबर 2020 तक चिकनगुनिया के 12 केस थे जिसमें कोई भी मृत्यु नहीं हुयी। पिछले वर्ष 22 अक्टूबर, 2019 तक एच-1, एन-1 के 2082 केस थे जिसमें 34 लोगों की मृत्यु हुयी थी, जबकि इस वर्ष इसी अवधि में 22 अक्टूबर 2020 तक डायरिया के 252 केस थे जिसमें 12 लोगों मृत्यु हुयी। उन्होंने बताया कि त्योहारों का सीजन आ रहा है इसलिए मोहल्ला निगरानी समिति को सर्तक रहने की आवश्यकता है। कि संक्रमण को न फैलने दिया जाए। उन्होंने बताया कि कोई भी व्यक्ति बिना मास्क पहने घर से बाहर न निकले और सावधानी रखनी की आवश्यकता है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या