निजीकरण, कर्मचारी विरोधी रवैये के खिलाफ कर्मचारी आक्रोशित- प्रदेश के हर जिले में धरना (ध्यान आकर्षण) कर जिलाधिकारी के माध्यम से ज्ञापन

14 अक्टूबर को नगर निगम लखनऊ में कर्मचारियो का धरना


राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद  की बैठक में बनी रणनीति ।


लखनऊ, 
देश के युवाओं का भविष्य खतरे में है, कर्मचारियो को मिल रही सुविधाओं में कटौतियां जारी है, देश और प्रदेश की सरकारें कर्मचारियों को इस देश का दोयम दर्जे का नागरिक मानती हैं, राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद इसे बर्दाश्त नही करेगा। सरकार द्वारा की जा रही वादा खिलाफी व उत्पीड़न से कर्मचारियों के आक्रोश को देखते हुए इप्सेफ के आह्वान पर राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद आंदोलन को तैयार है । परिषद की समीक्षा बैठक में जनपदों की समीक्षा के पश्चात महामंत्री अतुल मिश्रा ने बताया कि
निजीकरण को रोकने, पुरानी पेंशन बहाली, राष्ट्रीय वेतन आयोग गठित करने, ठेका प्रथा संविदा की जगह स्थाई नियुक्तियां किये जाने, कर्मचारी आचरण नियमावली में सुधार कर कर्मचारियो को अधिकार दिए जाने, 50 साल की उम्र अथवा 30 साल की सेवा पर अनिवार्य सेवानिवृत्ति किए जाने के विरोध में इप्सेफ द्वारा घोषित आंदोलन के क्रम में 14 अक्टूबर को प्रदेश के राज्य कर्मचारी सोशल दूरी का पालन करते हुए जिला मुख्यालयो पर धरना देंगे, बैठक की अध्यक्षता परिषद के अध्यक्ष सुरेश रावत ने किया ।  
श्री मिश्रा  ने बताया कि प्रदेश में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद द्वारा इस आंदोलन को चलाया जा रहा है, कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा भी आंदोलन में भागीदारी करेगा, प्रदेश की समीक्षा में स्पष्ट हुआ कि सरकारों की उपेक्षा पूर्ण रवैये से कर्मचारी नाराज हैं।  कर्मचारियों के अधिकार धीरे धीरे कम हो रहे हैं, सरकार संविदा, आउटसोर्सिंग और निजीकरण को बढ़ावा दे रही है, जो आम जनता के भविष्य के लिए भी घातक है वहीं सरकारें कर्मचारियों को निराश कर रही हैं और उनका मनोबल तोड़ने के लिए 50 साल की उम्र या 30 साल की सेवा पर जबरन रिटायर किए जाने का प्रचार प्रसार किया गया  जिससे कर्मचारी परेशान है,  और इसे बर्दाश्त नहीं करेगा ।
बैठक में के के सचान संगठन प्रमुख,गिरीश चन्द्र मिश्रा वरिष्ठ उपाध्यक्ष,  अशोक कुमार प्रवक्ता, डॉ पी के सिंह सचिव, आशीष पाण्डेय संयुक्त मंत्री, सर्वेश पाटिल उपाध्यक्ष, जे पी मौर्या महामंत्री वाणिज्य कर, बी ए मिश्रा समाज कल्याण,प्रदीप गंगवार  अध्यक्ष के जी एम यू, अमित शर्मा डॉ आर एम एल संस्थान, आर के पी सिंह महामंत्री एक्स रे टेक्नीशियन एसो, अभय पाण्डेय महामंत्री गन्ना विभाग मिनिस्टीरियल, राजीव तिवारी वित्त मंत्री, सुनील कुमार मीडिया प्रभारी, राजेश चौधरी मंडलीय मंत्री,   राजकीय फार्मेसिस्ट महासंघ के महामंत्री अशोक कुमार, उपाध्यक्ष प्रवीण यादव,कमल श्रीवास्तव व अजय पाण्डेय का सचिव, सुभाष श्रीवास्तव जिला अध्यक्ष,  सतीश यादव कुष्ठ आदि पदाधिकारी उपस्थित रहे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या