प्रमुख सचिव ने की संस्कृति विभाग में चल रहे निर्माण कार्यों की समीक्षा


गुणवत्ता युक्त सभी कार्य सितम्बर 2021 से पूर्व पूरे कराये जाये

समस्त परियोजनाएं पर्यावरण के अनुकूल तथा हरियाली व वनस्पति का ध्यान रखा जाये- मुकेश मेश्राम
लखनऊ 13 अक्टूबर, 2020
प्रमुख सचिव संस्कृति श्री मुकेश मेश्राम ने आज बापू भवन स्थित सभाकक्ष में विभाग में चल रहे निर्माण कार्यो की समीक्षा सभी कार्यदायी संस्थाओं एवं अधिकारियों के साथ की। बैठक में विभाग के निर्माणाधीन विभिन्न परियोजनाओं जैसे-मा0 अटल बिहारी बाजपेयी की स्मृति में आगरा के बटेश्वर में सांस्कृतिक समारोह हेतु संकुल का निर्माण (रू0 13.36 करोड़), पं0 सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला जी की जन्मस्थली गढकोला उन्नाव में विशाल स्मृति भवन एवं पुस्तकालय का निर्माण (रू0 14.64 करोड़), संत कबीर नगर में संत कबीर अकादमी की स्थापना (रू0 23.59 करोड़), पं0 दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय परिसर में गुरू गोरक्षनाथ शोध पीठ का निर्माण (रू0 11.55 करोड़), गोरखपुर में अत्याधुनिक प्रेक्षागृह का निर्माण (रू0 49.50 करोड़), मा0 मुख्यमंत्री जी की घोषणा के अन्तर्गत सार्वजनिक रामलीला स्थलो में बर्ड घाट गोरखपुर के रामलीला स्थल (रू0 4.87 करोड़) एवं रामलीला मैदान खिरनी बाग शाहजहाँपुर की चाहरदीवारी का निर्माण (रू0 0.74 करोड़), अयोध्या शोध संस्थान में तुलसी स्मारक भवन का आधुनिकीकरण/निर्माण (रू0 16.82 करोड़), कोडर इमिलिया बलरामपुर में निर्माणाधीन संग्रहालय (रू0 19.74 करोड़) एवं विभिन्न संग्रहालयों की निर्माणाधीन वीथिकाओं तथा अन्य निर्माण कार्यो की समीक्षा की गयी।
प्रमुख सचिव संस्कृति ने सभी कार्यदायी संस्थाओं को निर्देश दिये कि समस्त कार्य समयान्तर्गत सितम्बर, 2021 से पूर्व पूर्ण करा कर उनका लोकार्पण करा दिया जाये। प्रमुख सचिव संस्कृति द्वारा सभी कार्यदायी संस्थाओं को कार्य में गतिशीलता प्रदान करते हुए विभाग को निर्माण कार्यो का पर्ट चार्ट उपलब्ध कराये जाने के साथ ही गुणवत्तापूर्ण कार्य करते हुए कार्य की समय सीमा निर्धारित करने के निर्देश भी दिये गये है। बैठक में यह भी निर्देश दिये गये कि समस्त परियोजनाए पर्यावरण अनुकूल हो तथा हरियाली एवं वनस्पति का भी विशेष ध्यान रखा जाये।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या