समाजवाद की भाषा को परिभाषित किया डा.राममनोहर लोहिया ने : तिलक यादव

समाजवाद की भाषा को परिभाषित किया डा.राममनोहर लोहिया ने : तिलक यादव



सपा कार्यालय पर मनाया गया 53वां निर्वांण दिवस
ललितपुर। स्टेशन रोड स्थित जिला कार्यालय पर सोमवार को डा.राममनोहर लोहिया के 53वें निर्वांण दिवस पर महत्वपूर्ण बैठक व संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी की अध्यक्षता समाजवादी पार्टी जिलाध्यक्ष तिलक यादव एड. ने की, जबकि संचालन जिला महासचिव कृष्ण स्वरूप निरंजन ने किया। इस दौरान वक्ताओं ने समाजवादी विचारक डा.राममनोहर लोहिया के पदचिह्नों पर चलकर एक आदर्श समाज की स्थापना करने का आह्वान किया।
 संगोष्ठी में जिलाध्यक्ष तिलक यादव ने कहा कि समाजवाद की परिभाषा को सच्ची समाजसेवा में परिभाषित करने में डा.राममनोहर लोहिया का विशेष योगदान रहा। उन्होंने कहा कि आज आवश्यकता है तो सिर्फ उनके आदर्शों पर चलकर समाजवाद की परिभाषा को जमीन पर हकीकत का रूप देने की। उन्होंने कहा कि डा.राममनोहर लोहिया का स्पष्ट मानना था कि आर्थिक बराबरी होने पर जाति व्यवस्था अपने आप खत्म हो जाएगी और सामाजिक बराबरी स्थापित होगी। उन्होंने सुझाव दिया कि जाति व्यवस्था के उन्मूलन के लिए सामाजिक समता पर आधारित दृष्टिकोण अपनाना होगा। सामाजिक समरसता बनाए रखने के लिए जाति व्यवस्था के विरुद्ध लड़ाई द्वेष के वातावरण में नहीं, विश्वास के वातावरण में होनी चाहिए। इस मौके पर ज्योति सिंह लोधी, अमर सिंह यादव, विजय सिंह यादव, लोहिया वाहिनी जिलाध्यक्ष आशीष अहारिया, गोविन्द, रामदास श्रोतीय, अंकित यादव नौहरखुर्द, जितेन्द्र यादव, नीलू कुशवाहा, नरेन्द्र सिंह राजपूत, आनंद भूरे, जयहिन्द सिंह, प्रदीप प्रजापति, गौरव विश्वकर्मा, अतिशय जैन, राजबहादुर सिंह, राघवेन्द्र पटेल, कृष्ण प्रताप कुशवाहा, रहीश सिंह, रूप सिंह यादव, विमल रजक, पुष्पेन्द्र सिंह, चक्रेश तोमर, मु.शरीफ जावेद, विशाल राठौर, हनुमत सिंह, बलराम सिंह, मुलायम सिंह, गोविन्द सिंह, राघवेन्द्र, दीपक सेन, प्रमोद, नीलू रजक, अशोक साहू, शत्रुघन यादव, सचिन सोलंकी, नरेन्द्र कुशवाहा, प्रीतम लाल, मनोज कुशवाहा आदि मौजूद रहे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या