उत्तर प्रदेश मानवाधिकार आयोग ने पुलिस अधीक्षक, बांदा को चार सप्ताह में जांच आख्या प्रस्तुत करने के दिये निर्देश

लखनऊ: 17 अक्टूबर, 2020

उत्तर प्रदेश मानवाधिकार आयोग ने दैनिक समाचार पत्र में जनपद बांदा में घटित घटना का 16 अक्टूबर 2020 को समाचार पत्र में प्रकाशित खबर का स्वप्रेरणा से संज्ञान में लेकर पुलिस अधीक्षक, बांदा को चार सप्ताह में जांच कराकर जांच आख्या आयोग के समक्ष प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है।
यह जानकारी न्यायमूर्ति श्री के0पी0 सिंह सदस्य उत्तर प्रदेश मानवाधिकार आयोग ने दी। प्रथम दृष्टया प्रकरण मानवाधिकार के हनन का प्रत्यक्ष उदाहरण प्रतीत होता है।
उन्होेंने बताया कि आयोग ने इसे स्वप्रेरणा से संज्ञान में लेकर पुलिस अधीक्षक, बांदा को चार सप्ताह में जांच कराकर जांच आख्या आयोग के समक्ष प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या