वार्ता विफल, कई जिलों में बिजली संकट।

लखनऊ, पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के निजीकरण के विरोध में बिजली कर्मचारियों का कार्य बहिष्कार आंदोलन समाप्त होते-होते रह गया। सोमवार को देर रात ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा के साथ विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के पदाधिकारियों की लंबी वार्ता में निजीकरण न किए जाने पर सहमति बन गई। लेकिन पॉवर कॉरपोरेशन के चेयरमैन ने  समझौते पर हस्ताक्षर करने से  यह कह कर इनकार कर दिया कि विचार विमर्श करने के बाद ही वह हस्ताक्षर करेंगे।  जिस पर कर्मचारियों ने कॉर्पोरेशन प्रबंधन पर अनावश्यक टकराव पैदा करने का आरोप लगाते हुए आंदोलन जारी रखने का फैसला किया। बिजली कर्मियों की कार्य बहिष्कार के कारण राजधानी समेत प्रदेश के कई जिलों में विद्युत आपूर्ति प्रभावित हुई है। राजस्व वसूली पर भी प्रभाव पड़ा है। पूर्वांचल में कार्य बहिष्कार का व्यापक असर है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या